Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

ये दूरियां मिटा दो ना

ये नाराजगी ,ये दूरियां पापा मिटा दो ना।
सबको माफ करके ये फासला मिटा दो ना।
तुम्हारे बिना जीना भला क्या जीना है ।
हमें गलें लगाकर ये दूरियां मिटा दों ना।
पापा तुम्हारे सिवा हमें कुछ ना और चाहीए।
बस तुम्हारा साथ हो, और मेरे ऊंगली में लिपटे आपका हाथ हो।
ऐसा हमें अपना दुनिया दे दों ना।
कब से तरस गई हैं ये नन्ही आंखें ,आपके साथ खेलने और हंसने को।
ये दूरियां मिटाकर हमें अपने पास बुला लो ना।
हमपे अपना प्यार लुटाओ ना।
सभी बच्चों के पिता स्कूल में आतें हैं अपने बच्चों को ले जाने को।
ये दायरा मिटाकर हमें भी कभी लेनें स्कूल आओं ना।
रोज मैं टूटतें तारों से आपके के लिए दुआ मांगती हूं।
हो सदा आप हमारे पास , यहीं ख्वाहिश रखती हूं।
पापा ये नफ़रत के दीवार गिराकर मुझे अपने दुनिया में सामिल कर लो ना।
पापा हमें गले लगा लो ना।
पापा अपने कंधे पे बैठा कर हमें, ये आधी दुनिया दिखा दो ना।

नीतू साह
हुसेना बंगरा, सीवान-बिहार

3 Likes · 2 Comments · 381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
*जीवन में तुकबंदी का महत्व (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
प्रभु शरण
प्रभु शरण
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
मेरी सरलता की सीमा कोई नहीं जान पाता
Pramila sultan
जीवन समर्पित करदो.!
जीवन समर्पित करदो.!
Prabhudayal Raniwal
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
जब सूरज एक महीने आकाश में ठहर गया, चलना भूल गया! / Pawan Prajapati
Dr MusafiR BaithA
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
ख़ान इशरत परवेज़
जिसके पास ज्ञान है,
जिसके पास ज्ञान है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
हरमन प्यारा : सतगुरु अर्जुन देव
Satish Srijan
दुआएं
दुआएं
Santosh Shrivastava
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
हिन्दी दोहा -भेद
हिन्दी दोहा -भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
........
........
शेखर सिंह
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
प्यार
प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'विडम्बना'
'विडम्बना'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
3140.*पूर्णिका*
3140.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ठंड
ठंड
Ranjeet kumar patre
मीना
मीना
Shweta Soni
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
अब किसी से
अब किसी से
Dr fauzia Naseem shad
Loading...