Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 28, 2022 · 1 min read

ये दूरियां मिटा दो ना

ये नाराजगी ,ये दूरियां पापा मिटा दो ना।
सबको माफ करके ये फासला मिटा दो ना।
तुम्हारे बिना जीना भला क्या जीना है ।
हमें गलें लगाकर ये दूरियां मिटा दों ना।
पापा तुम्हारे सिवा हमें कुछ ना और चाहीए।
बस तुम्हारा साथ हो, और मेरे ऊंगली में लिपटे आपका हाथ हो।
ऐसा हमें अपना दुनिया दे दों ना।
कब से तरस गई हैं ये नन्ही आंखें ,आपके साथ खेलने और हंसने को।
ये दूरियां मिटाकर हमें अपने पास बुला लो ना।
हमपे अपना प्यार लुटाओ ना।
सभी बच्चों के पिता स्कूल में आतें हैं अपने बच्चों को ले जाने को।
ये दायरा मिटाकर हमें भी कभी लेनें स्कूल आओं ना।
रोज मैं टूटतें तारों से आपके के लिए दुआ मांगती हूं।
हो सदा आप हमारे पास , यहीं ख्वाहिश रखती हूं।
पापा ये नफ़रत के दीवार गिराकर मुझे अपने दुनिया में सामिल कर लो ना।
पापा हमें गले लगा लो ना।
पापा अपने कंधे पे बैठा कर हमें, ये आधी दुनिया दिखा दो ना।

नीतू साह
हुसेना बंगरा, सीवान-बिहार

3 Likes · 2 Comments · 65 Views
You may also like:
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
" सच का दिया "
DESH RAJ
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
💐 हे तात नमन है तुमको 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H. Amin
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
गर हमको पता होता।
Taj Mohammad
दहेज़
आकाश महेशपुरी
आजमाइशें।
Taj Mohammad
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
✍️दिव्याची महत्ती...!✍️
"अशांत" शेखर
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
रोज हम इम्तिहां दे सकेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
किस्मत की निठुराई....
डॉ.सीमा अग्रवाल
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
जो बीत गई।
Taj Mohammad
कृतिकार पं बृजेश कुमार नायक की कृति /खंड काव्य/शोधपरक ग्रंथ...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
रिश्ते
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
Loading...