Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Sep 2022 · 1 min read

ये कैसी तडपन है, ये कैसी प्यास है

ये कैसी तडपन है,ये कैसी प्यास है,
जो मेरे पास नही,उसी की आस है।
जी रही हूं मै बस,उसी की आस में,
कभी तो बुझेगी प्यास,यही आस है।।

तुम ही तो मेरी आंखों के उजियारे हो,
तुम हो तो मेरी आंखों के दो तारे हो।
कभी न कभी तो होंगे तुम्हारे दर्शन,
तुम ही तो मेरे जीवन के रखवारे हो।।

ये कैसा प्यार है,ये कैसा इकरार है,
तुमसे मिलने को जो हर वक्त तैयार है,
आन मिलो सजना अब तो मेरे द्वार,
खड़ी हूं मै कब से,वरमाला अब तैयार है।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 409 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
वो ज़ख्म जो दिखाई नहीं देते
shabina. Naaz
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
रातें ज्यादा काली हो तो समझें चटक उजाला होगा।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
प्रेम जीवन धन गया।
प्रेम जीवन धन गया।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खामोश किताबें
खामोश किताबें
Madhu Shah
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
एक टऽ खरहा एक टऽ मूस
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Harish Chandra Pande
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
उसने मुझे लौट कर आने को कहा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
BUTTERFLIES
BUTTERFLIES
Dhriti Mishra
मैं तो महज शमशान हूँ
मैं तो महज शमशान हूँ
VINOD CHAUHAN
ग्रीष्म ऋतु --
ग्रीष्म ऋतु --
Seema Garg
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
श्री रामप्रकाश सर्राफ
श्री रामप्रकाश सर्राफ
Ravi Prakash
ଅହଙ୍କାର
ଅହଙ୍କାର
Bidyadhar Mantry
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
"" *चाय* ""
सुनीलानंद महंत
गीत नया गाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
3042.*पूर्णिका*
3042.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
व्यक्ति को ख्वाब भी वैसे ही आते है जैसे उनके ख्यालात होते है
व्यक्ति को ख्वाब भी वैसे ही आते है जैसे उनके ख्यालात होते है
Rj Anand Prajapati
अलबेला अब्र
अलबेला अब्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जब ज़रूरत के
जब ज़रूरत के
Dr fauzia Naseem shad
*** लहरों के संग....! ***
*** लहरों के संग....! ***
VEDANTA PATEL
Loading...