Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2022 · 1 min read

ये आँसू मत बहाओ तुम

ये आँसू मत बहाओ तुम,खुशी तेरी मुझको चाहिए।
ना समझो तुम मुझे दुश्मन, हंसी तेरी मुझको चाहिए।।
ये आँसू मत बहाओ तुम—————-।।

रहे खुशहाल हमेशा तू ,रहे हर गम तुमसे दूर।
मुकम्मल हो तेरे सपनें, इज्जत तेरी मुझको चाहिए।।
ये आँसू मत बहाओ तुम—————–।।

बहुत ही फिक्र है मुझको, तेरी जिंदगी की हमदम।
तेरी बर्बादी नहीं चाहता,बुलन्दी तेरी मुझको चाहिए।।
ये आँसू मत बहाओ तुम—————–।।

नहीं मैं कोई सौदागर, करूँ नीलाम तेरा जो चमन।
रोशन तुमको रखना है, रोशनी तेरी मुझको चाहिए।।
ये आँसू मत बहाओ तुम—————–।।

छोड़कर गर सभी तेरा साथ,तुम्हें तन्हा- जुदा कर दे।
मुझपे अधिकार है तेरा, जिंदगी तेरी मुझको चाहिए।।
ये ऑंसू मत बहाओ तुम——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
इश्क हम उम्र हो ये जरूरी तो नहीं,
शेखर सिंह
Try to find .....
Try to find .....
पूर्वार्थ
■ खरी-खरी...
■ खरी-खरी...
*प्रणय प्रभात*
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
'अशांत' शेखर
2875.*पूर्णिका*
2875.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
तेरी यादें बजती रहती हैं घुंघरूओं की तरह,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
हम सब एक दिन महज एक याद बनकर ही रह जाएंगे,
Jogendar singh
मृगनयनी
मृगनयनी
Kumud Srivastava
एकांत में रहता हूँ बेशक
एकांत में रहता हूँ बेशक
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
एक पल में ये अशोक बन जाता है
एक पल में ये अशोक बन जाता है
ruby kumari
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
रंग जाओ
रंग जाओ
Raju Gajbhiye
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
तुम्हारी आँख से जब आँख मिलती है मेरी जाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
भीग जाऊं
भीग जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Let your thoughts
Let your thoughts
Dhriti Mishra
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
गीत रीते वादों का .....
गीत रीते वादों का .....
sushil sarna
दोहा छंद विधान
दोहा छंद विधान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
संगत
संगत
Sandeep Pande
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
परवरिश
परवरिश
Shashi Mahajan
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
Loading...