Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं

ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
पर सूनीं राहें, सारे भ्रम तोड़ती रहीं

तेरे बिन जीना दूभर सा था ।।
मैं तुझे रट रही थी, खुदके पन्ने मोड़ती रही।।

तुझमें सिकन आ ही जाती, जो मेरी आवाज़ तुझे छूती,
मैं खुद में ठहर गयी, तुझमें दौड़ती रही।।

अमर हो जाए मेरी मोहब्बत इस जहाँ में
तेरे नाम से मै हर पैगाम छोड़ती रही।।

तेरे इश्क में मीरा हो गई मैं तो,
मैं मर्यादाओं के सारे धागे तोड़ती रही।।
✍️कैलाश सिंह

2 Likes · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सर-ए-बाजार पीते हो...
सर-ए-बाजार पीते हो...
आकाश महेशपुरी
पिता
पिता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तेरे ख़त
तेरे ख़त
Surinder blackpen
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
■ श्रमजीवी को किस का डर...?
*प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
बसंत पंचमी
बसंत पंचमी
नवीन जोशी 'नवल'
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
कुछ नींदों से ख़्वाब उड़ जाते हैं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-152से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*देश भक्ति देश प्रेम*
*देश भक्ति देश प्रेम*
Harminder Kaur
कार्यक्रम का लेट होना ( हास्य-व्यंग्य)
कार्यक्रम का लेट होना ( हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
ना जमीं रखता हूॅ॑ ना आसमान रखता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
"तहजीब"
Dr. Kishan tandon kranti
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
‘ विरोधरस ‘ [ शोध-प्रबन्ध ] विचारप्रधान कविता का रसात्मक समाधान +लेखक - रमेशराज
कवि रमेशराज
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कविता की महत्ता।
कविता की महत्ता।
Rj Anand Prajapati
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...