Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

ये अलग बात है

ये अलग बात है
अब तुम नहीं,
तुम्हारी परछाइयां हैं
मेरी हमसफर……
आज भी उम्मीद को थाम कर बैठा हूं
अपने नशेमन में,
आ जाओ शायद एक दिन,
उस एक दिन के लिए
सहेज कर रखी हैं
तमाम यादें और अनुभूतियाँ
शायद, तुम आओ,
और हिसाब मांगों मुझ से,
उन पलों का, दिन, महीने और सालों का
जो हिजरत में गुजारे है मैंने.
मैं ख़ुद ही सवाल कर लेता हूं
ख़ुद से..
और हिसाब भी दे देता हूँ
तुम्हें ख़ुद ही उन पल, क्षणों,
दिनों और रातों का.
जानता हूं
तुम लौट कर अब नहीं आओगी
चली गई हो तुम
मेरे साथ, मेरे पास अपनी
परछाई छोड़कर……
फ़िर भी…
मैं खुश हूं,
तुम्हारी परछाई के साथ
जो आती है हर रोज मेरे पास
कभी चाँदनी बन कर
तो कभी स्याही
अमावस की बन कर
कभी चांद, तो सितारे से कभी
मेरी खिड़की पर……
और, समा जाती है
मुझ में….
वो तुम्हारा अक्स बन कर
एक नशा बन कर,
जो उतरता ही नहीं कभी
जज्ब हो गया है मुझ में
तुम्हारी मोहब्बत की तरह.

हिमांशु Kulshrestha

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
क्या चाहती हूं मैं जिंदगी से
Harminder Kaur
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
#सन्देश...
#सन्देश...
*प्रणय प्रभात*
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
प्राण-प्रतिष्ठा(अयोध्या राम मन्दिर)
लक्ष्मी सिंह
3235.*पूर्णिका*
3235.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*रानी ऋतुओं की हुई, वर्षा की पहचान (कुंडलिया)*
*रानी ऋतुओं की हुई, वर्षा की पहचान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
मैं ना जाने क्या कर रहा...!
भवेश
🌸साहस 🌸
🌸साहस 🌸
Mahima shukla
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
ये जो मेरी आँखों में
ये जो मेरी आँखों में
हिमांशु Kulshrestha
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
प्रभु श्री राम
प्रभु श्री राम
Mamta Singh Devaa
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
स्पर्श
स्पर्श
Ajay Mishra
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
सुबह का खास महत्व
सुबह का खास महत्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
मित्र, चित्र और चरित्र बड़े मुश्किल से बनते हैं। इसे सँभाल क
Anand Kumar
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
दिल में हिन्दुस्तान रखना आता है
नूरफातिमा खातून नूरी
कर्म प्रकाशित करे ज्ञान को,
कर्म प्रकाशित करे ज्ञान को,
Sanjay ' शून्य'
सरस्वती वंदना-1
सरस्वती वंदना-1
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
🚩साल नूतन तुम्हें प्रेम-यश-मान दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
Loading...