Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2017 · 2 min read

[[[ यूँ ही शुरू हो गया फ़िल्मी सफ़र ]]]

((((यूँ ही शुरू हो गया फिल्मी सफर))))

#दिनेश एल० “जैहिंद”

फिल्मी लाईन” एक तालाब है | मैं औरों की तरह कम उम्र में इस तालाब में कूद पड़ा था |
सोचा कि बहुत सारी फिल्मरूपी मछलियाँ पकड़ कर बेचूँगा और नाम-पैसा कमाऊँगा |
मेरे साथ कई डिप्लोमाधारी फिल्मकार, निर्देशक और दिग्गज लोग भी थे | किसी के पास छोटी नाव तो किसी के पास बड़े-बड़े जहाज भी थे और सबके हाथों में फिल्मरूपी
मछलियाँ पकड़ने के सारे सामान भी थे, लेकिन मेरे हाथ तो खाली थे, मैं खाली हाथ ही कूद पड़ा था | परन्तु जिनका भाग्य तगड़ा था,बाप-दादाओं की दौलत व सहयोग था और जो उनकी बदौलत चले थे, उन्हें तो किनारे से ही छोटी-बड़ी मछलियाँ मिलनी शुरू हो गई और
कइयों को तो थोड़ी दूर जाने के बाद ही | परन्तु मैं वैसा भाग्यशाली व बड़े बाप का बेटा कहाँ था | “सफलता भाग्य की अंतिम सीढ़ी होती है !”
यह मैंने उसी वक़्त जाना |
मैं तो डूबते-उतराते, हाथ-पाँव मारते खाली हाथ ही आगे बढ़ रहा था | मछलियाँ मिलेंगी,जरूर मिलेंगी की उम्मीद व आशा ने मुझे “मँझधार” तक लाकर छोड़ा, परन्तु एक भी मछली हाथ न लगी |
बड़े दु:ख के साथ डूबते-उतराते पीछे मुड़कर देखा तो मेरे साथ के मित्रों के हाथों में, जालों में यहाँ तक कि उनकी नावों और जहाजों में भी फिल्मरूपी मछिलयाँ पड़ी हुई थीं |
दु:ख को भूलकर झूठी हिम्मत बाँधकर आगे बढ़ना जारी रखा | आखिर करता भी क्या मैं ?
मँझधार से खाली हाथ तो वापस नहीं आ सकता था न ! पीछे लौटना तो शर्म वाली बात होती, उपहास का कारण बन जाता, सो मैंने सोचा कि फिल्म लाईन रूपी इस तालाब में
डूबूँगा नहीं, किसी तरह हाथ-पाँव मारते हुए उस किनारे तक पहुँचकर ही दम लूँगा, क्योंकि कोई भी यह समझ सकता है कि पीछे भी जाने में वही वक़्त लगेगा और आगे भी जाने में वहीं
वक़्त लगेगा | और उस वक़्त दुबारा हाथ-पाँव मारना शुरू किया | फिर भी मेरे हाथ खाली थे |
कई बार ऐसा हुआ कि मेरे हाथों मछलियाँ लगी भी, पर मैं ठीक से पकड़ नहीं पाया और वे फिसल गईं |
पकड़ में भी भला कैसे आतीं मैं तो पैदाईशी खाली हाथ आया था |
लेकिन फिर भी दुनिया के उलाहने व हँसी भरे तानों से बचने के लिए और कुछ कर दिखाने के लिए नई आशा के साथ मैं मँझधार से आगे बढ़ा कि उस तरफ उस किनारे “मछलियाँ” जरूर मिल जाएंगी |

=================

Language: Hindi
1 Like · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पिछले पन्ने 8
पिछले पन्ने 8
Paras Nath Jha
ऑंखों से सीखा हमने
ऑंखों से सीखा हमने
Harminder Kaur
इन्सानियत
इन्सानियत
Bodhisatva kastooriya
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस आज......
*Author प्रणय प्रभात*
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
कुंडलिनी छंद ( विश्व पुस्तक दिवस)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
श्रोता के जूते
श्रोता के जूते
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
भगवावस्त्र
भगवावस्त्र
Dr Parveen Thakur
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
ओसमणी साहू 'ओश'
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
*किसी को राय शुभ देना भी आफत मोल लेना है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भारत के लाल को भारत रत्न
भारत के लाल को भारत रत्न
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
वर्ल्डकप-2023 सुर्खियां
गुमनाम 'बाबा'
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
7-सूरज भी डूबता है सरे-शाम देखिए
Ajay Kumar Vimal
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
भला कैसे सुनाऊं परेशानी मेरी
Keshav kishor Kumar
ऐलान कर दिया....
ऐलान कर दिया....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
रोशनी की शिकस्त में आकर अंधेरा खुद को खो देता है
कवि दीपक बवेजा
अतीत
अतीत
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
व्यक्ति कितना भी बड़ा क्यों न हो जाये
शेखर सिंह
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
आई आंधी ले गई, सबके यहां मचान।
Suryakant Dwivedi
Loading...