Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

यूँ ही क्यूँ – बस तुम याद आ गयी

यूँ ही क्यूँ – बस तुम याद आ गयी

जब कभी – सर्दी में बारिश हुई
कुछ बूंदों की फुहार ने
ज्यूँ ही चेहरे को छुआ
ना जाने क्यूँ फिर तुम याद आ गयी

खनकती चूड़ियों का संगीत
तुम्हारे परान्दियों से उड़ती
मोगरे की महक
ना जाने क्यूँ फिर याद आ गयी

कहाँ कहाँ ना भटका ये मन
ढूँढता तुझे

और आज सुबह – सुबह
मेरी खिड़की के बाहर
पत्ते में यूँ ही उलझी
बारिश की उस बूँद में
तेरा अक्श उभर आया

और ना जाने फिर
यूँ ही क्यूँ
बस तुम याद आ गयी

Language: Hindi
53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Every morning, A teacher rises in me
Every morning, A teacher rises in me
Ankita Patel
Love is beyond all the limits .
Love is beyond all the limits .
Sakshi Tripathi
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
रमेशराज के पशु-पक्षियों से सम्बधित बाल-गीत
कवि रमेशराज
"रिश्ते टूट जाते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
_सुविचार_
_सुविचार_
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
फुटपाथ
फुटपाथ
Prakash Chandra
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
हमेशा सच बोलने का इक तरीका यह भी है कि
Aarti sirsat
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
दिल को समझाने का ही तो सारा मसला है
shabina. Naaz
DR arun कुमार shastri
DR arun कुमार shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
आज कृत्रिम रिश्तों पर टिका, ये संसार है ।
Manisha Manjari
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
ख़ामोशी है चेहरे पर लेकिन
पूर्वार्थ
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्र ए हासिल
उम्र ए हासिल
Dr fauzia Naseem shad
■ सबको पता है...
■ सबको पता है...
*Author प्रणय प्रभात*
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य जब तक
सत्य जब तक
Shweta Soni
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
मन मन्मथ
मन मन्मथ
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
पिता !
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
इतने सालों बाद भी हम तुम्हें भूला न सके।
लक्ष्मी सिंह
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
आप वक्त को थोड़ा वक्त दीजिए वह आपका वक्त बदल देगा ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
3175.*पूर्णिका*
3175.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिव मिल शिव बन जाता
शिव मिल शिव बन जाता
Satish Srijan
Loading...