Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

यूँ ही कभी कभी

१.
दिले-ऐ-नादान को सुकून की तलाश है
जो बंद है तेरे चन्द अल्फाजों के भीतर |

२.
दीदार-ऐ-यार को तरस रही थी आँखें
तेरी तस्वीर देख के कुछ सुकून आया |

३.
हर सांस के साथ एक आह सी निकलती है
तेरे चेहरे पे जब मायूसी का आलम होता है |

४.
फ़रिश्ते मंडरा रहे थे मेरी जाँ ले जाने को
आब-ऐ-हयात बनकर तेरी दुआ आ गयी |

५.
तेरी एक अदद मुस्कराहट का तलबगार है ये दिल
कानों को तेरी बढ़ी हुई धडकनों ने बेचैन किया है |

६.
तुझसे दूरी का सोचना भी दिल को तकलीफ देता है
तुम हो की बात बात पर दूर जाने की बात करते हो |

७.
तुमने जो जज़्बात छुपाये हैं मुखौटे के पीछे
बता दो तुम्हारी इस बेरुखी की वजह क्या है |

८.
तुझे क्या मालूम कितना कितना डरते हैं तुझे खोने से
हर सांस पे जान निकलती है तुझे खोने के एहसास से |

९.
तुम जा तो रहे हो मुझसे मुंह फेरकर
क्या हो अगर हम फिर दिखे ही नहीं |

१०.
हालातों के हाथों मजबूर खिलौना हूँ मैं
वर्ना छीन लिया होता तुझे जहां वालों से |

११.
तुझे खबर है अपनी जान का दुश्मन नहीं हो सकता मैं
मेरी जान अमानत है तेरी जो मेरे पास महफूज रखी है |

१२.
मुहूर्त निकला है घर जा के बयाँ करेंगे दिल के जज़्बात
क्या हो ग़र खुदा ने मुझे मोहलत ही न दी तेरे जाने तक |

१३.
मेरे खुदा मुझे मोहलत बख्श देना चन्द लम्हातों की
मैं निगहबान हूँ मेरी जान अमानत है किसी और की |

“सन्दीप कुमार”

मेरा ब्लॉग : https://sandeip01.blogspot.in/2016/06/blog-post_14.html?spref=fb

284 Views
You may also like:
✍️✍️तो सूर्य✍️✍️
"अशांत" शेखर
पैसे की महिमा
Ram Krishan Rastogi
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Tnmy R Shandily
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग९]
Anamika Singh
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
पिता का सपना
श्री रमण
हिरण
Buddha Prakash
वृक्ष हस रहा है।
Vijaykumar Gundal
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
# हे राम ...
Chinta netam " मन "
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुध्द गीत
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
पिता
Vandana Namdev
जीवन और मृत्यु
Anamika Singh
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
Loading...