Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 26, 2016 · 1 min read

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था…..

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था
मुहब्बत में इतना भी मजबूर न था

ये ज़िंदगी मेरी रोशन थी उससे
अगरचे वो चमकता कोहिनूर न था

आबादियों ने क्या दी पहचान ए दिल
बर्बादियों से पहले मशहूर न था

है कौन सी सूरत महबूब तिरी ये
मेरा सनम तो इतना मगरूर न था

इश्क़ बिन भी जितनी ज़िंदगी गुज़री
था ज़ायक़ा उसमें पर भरपूर न था

परवाह थी बिजली और तूफ़ान की
बरसात में जीने का शऊर न था

जितना समझते थे आप मुझे हरदम
मगर इतना भी तुमसे मैं दूर न था

हसरत भरा ये दिल खाली कर डाला
इस तर ह मैं हल्का कभी हुज़ूर न था

——–सुरेश सांगवान ‘सरु’

2 Comments · 102 Views
You may also like:
आप कौन है
Sandeep Albela
जातिगत जनगणना से कौन डर रहा है ?
Deepak Kohli
आस्माँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
फूल
Alok Saxena
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
भारतीय संस्कृति के सेतु आदि शंकराचार्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुकून"
Lohit Tamta
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
🌺🌻🌷तुम मिलोगे मुझे यह वादा करो🌺🌻🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" ना रही पहले आली हवा "
Dr Meenu Poonia
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
शायरी ने बर्बाद कर दिया |
Dheerendra Panchal
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
मुस्कुराना सीख लो
Dr.sima
क़ैद में 15 वर्षों तक पृथ्वीराज और चंदबरदाई जीवित थे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
"ईद"
Lohit Tamta
Loading...