Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2016 · 1 min read

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था…..

यूँ भीख में लेना भी मंज़ूर न था
मुहब्बत में इतना भी मजबूर न था

ये ज़िंदगी मेरी रोशन थी उससे
अगरचे वो चमकता कोहिनूर न था

आबादियों ने क्या दी पहचान ए दिल
बर्बादियों से पहले मशहूर न था

है कौन सी सूरत महबूब तिरी ये
मेरा सनम तो इतना मगरूर न था

इश्क़ बिन भी जितनी ज़िंदगी गुज़री
था ज़ायक़ा उसमें पर भरपूर न था

परवाह थी बिजली और तूफ़ान की
बरसात में जीने का शऊर न था

जितना समझते थे आप मुझे हरदम
मगर इतना भी तुमसे मैं दूर न था

हसरत भरा ये दिल खाली कर डाला
इस तर ह मैं हल्का कभी हुज़ूर न था

——–सुरेश सांगवान ‘सरु’

2 Comments · 241 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे पूजो मत, पढ़ो!
मुझे पूजो मत, पढ़ो!
Shekhar Chandra Mitra
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
तुम मुझे यूँ ही याद रखना
Bhupendra Rawat
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
टूटी जिसकी देह तो, खर्चा लाखों-लाख ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
नेता पलटू राम
नेता पलटू राम
Jatashankar Prajapati
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
सत्य भूषण शर्मा
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कटी नयन में रात...
कटी नयन में रात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नारी और वर्तमान
नारी और वर्तमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
मुझे वो एक शख्स चाहिये ओर उसके अलावा मुझे ओर किसी का होना भी
yuvraj gautam
"शाम-सवेरे मंदिर जाना, दीप जला शीश झुकाना।
आर.एस. 'प्रीतम'
पकौड़े गरम गरम
पकौड़े गरम गरम
Dr Archana Gupta
आम्बेडकर ने पहली बार
आम्बेडकर ने पहली बार
Dr MusafiR BaithA
मम्मास बेबी
मम्मास बेबी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
क्या अब भी किसी पे, इतना बिखरती हों क्या ?
The_dk_poetry
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
ख़्वाबों से हकीकत का सफर- पुस्तक लोकार्पण समारोह
ख़्वाबों से हकीकत का सफर- पुस्तक लोकार्पण समारोह
Sahityapedia
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/179.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिन और रात-दो चरित्र
दिन और रात-दो चरित्र
Suryakant Dwivedi
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
मैंने तो बस उसे याद किया,
मैंने तो बस उसे याद किया,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
वक़्त सितम इस तरह, ढा रहा है आजकल,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
राखी का कर्ज
राखी का कर्ज
Mukesh Kumar Sonkar
*
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
Loading...