Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

युवा मन❤️‍🔥🤵

हर बात पर जिद उसकी , हर बात जीतने का अरमान|
हर बात पर मुकरने वाला , पर माँ के मन का रखता मान|

कुछ उलझा-सा है, अटके मन का, हर हाल उसको भान|
रंग स्वप्न में डूबा युवा है, व्यंजन स्वादु , कहां पहचान?

पसन्द अपनी,जाने न जाने, हां ! दूसरों का रखता ध्यान |
जाने डूबकर दिन -रात-सायम् ,गुमसुम सोचे किसका नाम?

संसार अकेला , आवाज गम्भीर ,उग्र मन, रंजित परिधान।
मंद आत्मविश्वास, दूर परिवार, झेंप -आतुरता ,उसकी पहचान ।

नयनद्वय के जल अविरल, उसके मन को मनभर जान।
संवेग- बादल जिसका परिणाम,कौन समझे उसका अधिमान?

सरलता जिससे चली गई है, ऐसा यौवन है गतिमान।
चंचल पंछी- सा ऊंचाई तक,शायद उसका चढ़ता परवान।

उसकी आदत सब्र का काम, कैसे कुँवारा बिताता याम?
सब निभाता सलीके से , पर कब तक रखे वो मन को थाम?

शायद इसी आशा में जी रहा, कठिन डगर में निज प्राण।
एक दिन सुखद अनुभूति की , आयेगी कांता देने विश्राम।।
##

1 Like · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
तुम-सम बड़ा फिर कौन जब, तुमको लगे जग खाक है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" धरती का क्रोध "
Saransh Singh 'Priyam'
हमारा देश
हमारा देश
Neeraj Agarwal
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
#इंतज़ार_जारी
#इंतज़ार_जारी
*Author प्रणय प्रभात*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
Subhash Singhai
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
चाहे हमको करो नहीं प्यार, चाहे करो हमसे नफ़रत
gurudeenverma198
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Sanjay ' शून्य'
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
जिंदगी में इतना खुश रहो कि,
Ranjeet kumar patre
वीर-जवान
वीर-जवान
लक्ष्मी सिंह
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
*तंजीम*
*तंजीम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
दीनानाथ दिनेश जी से संपर्क
Ravi Prakash
सीख बुद्ध से ज्ञान।
सीख बुद्ध से ज्ञान।
Buddha Prakash
"आशा-तृष्णा"
Dr. Kishan tandon kranti
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
" महक संदली "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
लड़कियां क्रीम पाउडर लगाकर खुद तो गोरी हो जाएंगी
लड़कियां क्रीम पाउडर लगाकर खुद तो गोरी हो जाएंगी
शेखर सिंह
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
मनोकामना
मनोकामना
Mukesh Kumar Sonkar
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
दिया है नसीब
दिया है नसीब
Santosh Shrivastava
कौन किसके बिन अधूरा है
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
Loading...