Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2024 · 1 min read

युग परिवर्तन

होगा फिर अब युग परिवर्तन
मंत्री जी जीते हैं देश
अवधपुरी होगी राजधानी
राम राज्य का पुन: प्रवेश
वर्ष शतक चार नौ दशक,
है बीता,
सत्ता हीन रहे अवधेश
दसवें दशक में जीते मंत्री
रचे व्यवस्था रघुवर देश
हुई प्रफुल्लित प्रजा बेचारी
देख लला को अवध नरेश,
दारुण दर्द सही थी जनता
हार के अपना भगवा देश,
टूटा किला राम राज्य का
बदला था पूरा अवशेष,
हर्षित होगा तीनो लोक
देख लला का पावन भेष,
घर – घर में होगी किलकारी
पावन नवमी पर्व विशेष ।

याद करो सब अपना रक्त,
हम सब हैं किसकी संतान ?
अपनाए थे, थी मजबूरी
विदेशी पंथ हुआ विद्यमान ।
आदर्श प्रजा आदर्श राज्य का
होगा फिर से नवनिर्माण
मिलकर सारे एक सूत्र में
भरो सनातन का हुंकार ।।

~आनन्द मिश्र

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
दुनिया की कोई दौलत
दुनिया की कोई दौलत
Dr fauzia Naseem shad
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
बोल दे जो बोलना है
बोल दे जो बोलना है
Monika Arora
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
फिर यहाँ क्यों कानून बाबर के हैं
Maroof aalam
Fragrance of memories
Fragrance of memories
Bidyadhar Mantry
"टमाटर" ऐसी चीज़ नहीं
*प्रणय प्रभात*
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
जल सिंधु नहीं तुम शब्द सिंधु हो।
कार्तिक नितिन शर्मा
A beautiful space
A beautiful space
Shweta Soni
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
जिया ना जाए तेरे बिन
जिया ना जाए तेरे बिन
Basant Bhagawan Roy
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
हरि लापता है, ख़ुदा लापता है
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
: काश कोई प्यार को समझ पाता
: काश कोई प्यार को समझ पाता
shabina. Naaz
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
बदले की चाह और इतिहास की आह बहुत ही खतरनाक होती है। यह दोनों
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
*गर्मी की छुट्टियॉं (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
कहीं और हँसके खुशियों का इज़हार करते हैं ,अपनों से उखड़े रहकर
DrLakshman Jha Parimal
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
दूर जाकर क्यों बना लीं दूरियां।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...