Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे

या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
मरने के बाद छोटे से गड्ढे में समेटे जाओगे…

इतना गुरूर न कर ऐ मेरे दोस्त
इस जहां से क्या लें के जाओगे

– केशव

156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
*नशा सरकार का मेरे, तुम्हें आए तो बतलाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
■ रोने से क्या होने वाला...?
■ रोने से क्या होने वाला...?
*Author प्रणय प्रभात*
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
वक्त यदि गुजर जाए तो 🧭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अन्नदाता किसान
अन्नदाता किसान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
जीवन है अलग अलग हालत, रिश्ते, में डालेगा और वही अलग अलग हालत
पूर्वार्थ
प्यार जताना नहीं आता मुझे
प्यार जताना नहीं आता मुझे
MEENU
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
बेऔलाद ही ठीक है यारों, हॉं ऐसी औलाद से
gurudeenverma198
भूख से लोग
भूख से लोग
Dr fauzia Naseem shad
"बताओ"
Dr. Kishan tandon kranti
*****वो इक पल*****
*****वो इक पल*****
Kavita Chouhan
काश
काश
Sidhant Sharma
मुमकिन हो जाएगा
मुमकिन हो जाएगा
Amrita Shukla
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
कभी - कभी सोचता है दिल कि पूछूँ उसकी माँ से,
Madhuyanka Raj
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
गुड़िया
गुड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Seema gupta,Alwar
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
एक समय के बाद
एक समय के बाद
हिमांशु Kulshrestha
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कभी मिलो...!!!
कभी मिलो...!!!
Kanchan Khanna
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
जय रावण जी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नेता अफ़सर बाबुओं,
नेता अफ़सर बाबुओं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...