Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Aug 2022 · 1 min read

याद रखना मेरी यह बात।

मेरे बच्चों! बताती हूँ मैं,
एक पते की बात।
इस बात को अपने जीवन में,
तुम बाँधकर रख लो गांठ।
जीवन के किसी पड़ाव पर,
जब कभी तुम्हें लगने लगे
कुछ भी नही बचा है।
जीवन जीने का कोई
अब सार नही रह गया है।
लगने लगे जब कर लूं
अपने जीवन का मै अंत।
ऐसे में रखना तुम मेरी
एक बात को याद।
यह जीवन शुरू हुआ शून्य से,
शून्य ही है जीवन का आधार।
तुम भी अपने जीवन में
इस शून्य को बना लेना आधार।
इस शून्य रूपी आधार पर तुम
करना फिर से जीवन का आरंभ।
फिर देखना कैसे पाते हो तुम,
अपने जीवन में खुशियाँ अनंत।

अनामिका

4 Likes · 6 Comments · 198 Views
You may also like:
बेपनाह रूहे मोहब्बत।
Taj Mohammad
सच ये है कि
मानक लाल"मनु"
जाते हो किसलिए
Dr. Sunita Singh
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
विधवा
Buddha Prakash
हम रात भर यूहीं तरसते रहे
Ram Krishan Rastogi
बेजुबान जानवर अपने दोस्त
Manoj Tanan
YOG KIJIYE SWASTHY LIJIYE
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पटेबाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नववर्ष
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
" राज सा पति "
Dr Meenu Poonia
मनमीत
लक्ष्मी सिंह
आँखों में बगावत है ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
■ अलविदा 2022, सुस्वागतम 2023
*प्रणय प्रभात*
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
सरल हो बैठे
AADYA PRODUCTION
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
✍️हर इँसा समता का हकदार है
'अशांत' शेखर
💐रामायण तथा गोस्वामीजी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फूलों में मकरंद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रोशन सारा शहर देखा
कवि दीपक बवेजा
दूर....
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
कहां हैं हम
Dr fauzia Naseem shad
हम देखते ही रह गये
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
गुलिस्तां
Alok Saxena
कहाँ गया रोजगार...?
मनोज कर्ण
जाति है कि जाती नहीं
Shekhar Chandra Mitra
Loading...