Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 9, 2016 · 1 min read

याद इक किस्सा पुराना आ गया

याद इक किस्सा पुराना आ गया।
सामने बीता ज़माना आ गया।

अब न कोई देख उनको पाएगा
आँसुओं को मनाना आ गया।

जीतने का था हुनर उसको पता
यूं उसे हमको सताना आ गया।

क्यों समझ पाया न दिल की बात यह
अब समय संग बस भुलाना आ गया।

ज़ख्म हैं गहरे बहुत ही यह अभी
हौंसलों से खुद सजाना आ गया।।।
कामनी गुप्ता ***

1 Like · 9 Comments · 237 Views
You may also like:
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
मन की मुराद
मनोज कर्ण
दिल के जख्म कैसे दिखाए आपको
Ram Krishan Rastogi
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम भी हैं महफ़िल में।
Taj Mohammad
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
ग्रीष्म ऋतु भाग 1
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ग़ज़ल
Anis Shah
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
कोई न अपना
AMRESH KUMAR VERMA
मेरी छवि
Anamika Singh
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
विनती
Anamika Singh
“ सज्जन चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
दर्पण!
सेजल गोस्वामी
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
*श्री राजेंद्र कुमार शर्मा का निधन : एक युग का...
Ravi Prakash
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️आत्मपरीक्षण✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
Loading...