Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 1 min read

याद इक किस्सा पुराना आ गया

याद इक किस्सा पुराना आ गया।
सामने बीता ज़माना आ गया।

अब न कोई देख उनको पाएगा
आँसुओं को मनाना आ गया।

जीतने का था हुनर उसको पता
यूं उसे हमको सताना आ गया।

क्यों समझ पाया न दिल की बात यह
अब समय संग बस भुलाना आ गया।

ज़ख्म हैं गहरे बहुत ही यह अभी
हौंसलों से खुद सजाना आ गया।।।
कामनी गुप्ता ***

1 Like · 9 Comments · 411 Views
You may also like:
पिता
Raju Gajbhiye
*शस्त्रधारी हैं (गीतिका)*
Ravi Prakash
यश तुम्हारा भी होगा
Rj Anand Prajapati
श्रृंगार
Alok Saxena
आधुनिकता
पीयूष धामी
दीया तले अंधेरा
Vikas Sharma'Shivaaya'
जन्मदिन कन्हैया का
Jayanti Prasad Sharma
जानता है
Dr fauzia Naseem shad
लाल टोपी
मनोज कर्ण
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ
shabina. Naaz
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
मानवता के डगर पर
Shivraj Anand
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
पुस्तक समीक्षा -एक थी महुआ
Rashmi Sanjay
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
भोजन की थाली लगे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
तड़फ
Harshvardhan "आवारा"
कोशिश
Shyam Sundar Subramanian
विभाजन की विभीषिका
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
दिवाली शुभ होवे
Vindhya Prakash Mishra
प्यार करने की कभी कोई उमर नही होती
Ram Krishan Rastogi
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
Surabhi bharati
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
बंधुआ लोकतंत्र
Shekhar Chandra Mitra
✍️ये आज़माईश कैसी?✍️
'अशांत' शेखर
Loading...