Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 3 min read

*याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य

याद आते हैं ब्लैक में टिकट मिलने के वह दिन 【 हास्य-व्यंग्य 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
एक जमाना था ,जब मनोरंजन का एकमात्र साधन सिनेमा था और सिनेमा-घर में जाने के बाद टिकट मिल जाना अपने आप में टेढ़ी खीर होता था । हताश और निराश दर्शक ब्लैक में मिलने वाले टिकट की तलाश करते थे । ब्लैक में बेचने वाला पहले से ही इस तलाश में रहता था कि किसी दर्शक की निराशा से भरी हुई आँखें उस से टकराएँ और वह चतुराई से भरी हुई अपनी आँखों के इशारे से उसे एक कोने में ले जाकर ब्लैक में टिकट पकड़ा दे ।
जैसी कि कहावत प्रसिद्ध है “जिन खोजा तिन पाइयाँ गहरे पानी पैठ” अर्थात जहाँ चाह है ,वहाँ राह है । जब दर्शक ब्लैक में टिकट खरीदने के लिए तैयार है ,तब बेचने वाला भी मिल ही जाता है ।दोनों की आँखें चार होती हैं और हाव-भाव तथा इशारों से यह पता चल जाता है कि एक पक्ष टिकट बेचने वाला है तथा दूसरा पक्ष टिकट खरीदने वाला है । सौदा होता है ,मोलभाव चलते हैं लेकिन अंत में सौदा पट जाता है।
टिकट को खरीदार के हवाले कर दिया जाता है । अब यह खरीदार की किस्मत है कि फिल्म उसे पसंद आए और पैसे वसूल हो जाएँ, या फिल्म लचर और बेजान साबित हो तथा पैसे डूब गए । साठ-सत्तर के दशक में यह टिकट का ब्लैक खूब चला । तब न सोशल मीडिया था और न टीवी के चैनल थे । दूरदर्शन के दर्शन भी नहीं हुए थे । जब आदमी घर से निकल कर कुछ मनोरंजन करना चाहता था ,तब सिनेमा का टिकट ही एकमात्र साधन हुआ करता था।
ब्लैक में टिकट बेचना अपने आप में एक अच्छा धंधा कहलाता था । उस समय कोई सोच भी नहीं सकता था कि आगे चलकर यह धंधा इतना बर्बाद हो जाएगा कि ब्लैक की बात तो दूर रही ,टिकट भी बेचना मुश्किल हो पड़ेगा । सब यही समझते थे कि बच्चों को ब्लैक में टिकट बेचने की कला अगर सिखा दी जाए और उन्हें कच्ची उम्र में ही इस काम-धंधे की बारीकियों से अवगत करा दिया जाए ,तो उनका भविष्य उज्ज्वल है ।
टिकट के खरीदार ,यह माना जाता था कि ,सात जन्मों तक उपलब्ध रहेंगे और एक बार अगर परिवार में किसी ने टिकट का ब्लैक करने की कला सीख ली तो पीढ़ी-दर-पीढ़ी यह एक हुनर के तौर पर परिवार की आजीविका का एक अच्छा साधन बना रहेगा ।
टिकट का ब्लैक करना सबके बल-बूते की बात नहीं होती । इसमें खतरे रहते हैं । उस जमाने में जब टिकट का ब्लैक खूब होता था , तब भी अक्सर पुलिस की रेड पड़ती थी । कभी-कभी कुछ लोग पकड़े जाते थे । लेकिन धंधे में कोई कमी कभी नहीं देखी गई । इसमें वही लोग आते थे ,जो निडर और साहसी होते थे । जिनमें जोखिम उठाने की क्षमता होती थी । जो टिकट को इस अंदाज में अपनी मुट्ठी में रखा करते थे कि खरीदार को तो दिख जाए लेकिन पुलिस को भनक तक न लगे । यह भी बड़ी अजीब बात थी कि उन दिनों टिकट की खिड़की खोलते के साथ ही भगदड़ मच जाती थी और फिर उसके बाद हाउसफुल का बोर्ड लटक जाता था अर्थात सिनेमा का पूरा बाजार कालाबाजारियों के हाथ में चला जाता था ।
अब न सिनेमा के वैसे शौकीन रहे ,न फिल्में मनोरंजन का एकमात्र साधन रह गई हैं। लोगों को व्हाट्सएप और फेसबुक देखने से फुर्सत नहीं । टिकट ब्लैक में बेचने वाले दूसरे काम-धंधे में चले गए । इस तरह सिनेमा के टिकटों का ब्लैक करना ,जो कि एक अच्छी फलती-फूलती कला थी ,समय के हाथों नष्ट हो गई । अब उसकी यादें बची हैं ।
————————————————
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
मेरी तो गलतियां मशहूर है इस जमाने में
Ranjeet kumar patre
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
🇮🇳 मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
Dr Manju Saini
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ये गजल बेदर्द,
Sahil Ahmad
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी देने वाली माँ
जिंदगी देने वाली माँ
shabina. Naaz
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
शरीर मोच खाती है कभी आपकी सोच नहीं यदि सोच भी मोच खा गई तो आ
Rj Anand Prajapati
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
Raju Gajbhiye
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
मेरे दिल ओ जां में समाते जाते
Monika Arora
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
ज़रूरतमंद की मदद
ज़रूरतमंद की मदद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
What Is Love?
What Is Love?
Vedha Singh
मुश्किलों से क्या
मुश्किलों से क्या
Dr fauzia Naseem shad
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
"कयामत का नशा"
Dr. Kishan tandon kranti
महफ़िल जो आए
महफ़िल जो आए
हिमांशु Kulshrestha
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
-- नफरत है तो है --
-- नफरत है तो है --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
2803. *पूर्णिका*
2803. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शिव स्तुति महत्व
शिव स्तुति महत्व
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#प्रातःवंदन
#प्रातःवंदन
*प्रणय प्रभात*
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*सबसे सुंदर जग में अपना, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*सबसे सुंदर जग में अपना, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
सम्राट कृष्णदेव राय
सम्राट कृष्णदेव राय
Ajay Shekhavat
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
Loading...