Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Sep 2023 · 1 min read

यादों की शमा जलती है,

यादों की शमा जलती है,
जीवन की पुस्तक के पन्नों पर ।
विभिन्न रंगों की चित्रित कहानियों की तरह,
यहां छुपे रिश्तों की मिठास और खुशियों पर।।

7 Likes · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
दुनिया दिखावे पर मरती है , हम सादगी पर मरते हैं
कवि दीपक बवेजा
ना गौर कर इन तकलीफो पर
ना गौर कर इन तकलीफो पर
TARAN VERMA
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
वैसे थका हुआ खुद है इंसान
शेखर सिंह
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
धीरज रख ओ मन
धीरज रख ओ मन
Harish Chandra Pande
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
माॅं लाख मनाए खैर मगर, बकरे को बचा न पाती है।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
आँखें
आँखें
Neeraj Agarwal
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
गुरु महाराज के श्री चरणों में, कोटि कोटि प्रणाम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जनता की कमाई गाढी
जनता की कमाई गाढी
Bodhisatva kastooriya
"लोभ"
Dr. Kishan tandon kranti
दीदार
दीदार
Vandna thakur
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
आज पुराने ख़त का, संदूक में द़ीद़ार होता है,
SPK Sachin Lodhi
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"मां चंद्रघंटा"*
Shashi kala vyas
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हीर मात्रिक छंद
हीर मात्रिक छंद
Subhash Singhai
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
आओ सर्दी की बाहों में खो जाएं
नूरफातिमा खातून नूरी
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद
Ravi Prakash
स्त्री चेतन
स्त्री चेतन
Astuti Kumari
*दादी की बहादुरी*
*दादी की बहादुरी*
Dushyant Kumar
2750. *पूर्णिका*
2750. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक समय के बाद
एक समय के बाद
हिमांशु Kulshrestha
Loading...