Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

यादों की किताब पर खिताब

खिताब जीतने के लिए
ही सही
लिखा तो *स्टार के लिए
ही सही,
चाहे प्रोत्साहन सिक्कों
के लिए ही सही,
.
देखा एक बिन्दु को,
ही सही,
दो बिंदुओं के बीच,
पैदा हुई,
एक रेखा ही सही,
.
चुम्बक की तरह,
सतह से दूर ही सही,
किनारे है सिकुड़ते
उदर फैलते
ही सही
DrMahenderSingh

Language: Hindi
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्र कौन है??
मित्र कौन है??
Ankita Patel
"गाली"
Dr. Kishan tandon kranti
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
I Can Cut All The Strings Attached
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
*
*"माँ कात्यायनी'*
Shashi kala vyas
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं तो महज संसार हूँ
मैं तो महज संसार हूँ
VINOD CHAUHAN
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
व्यक्ति और विचार में यदि चुनना पड़े तो विचार चुनिए। पर यदि व
Sanjay ' शून्य'
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
गणेश जी का हैप्पी बर्थ डे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
अच्छा अख़लाक़
अच्छा अख़लाक़
Dr fauzia Naseem shad
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कस्ती धीरे-धीरे चल रही है
कवि दीपक बवेजा
*
*"ममता"* पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
दुनिया सारी मेरी माँ है
दुनिया सारी मेरी माँ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
* चान्दनी में मन *
* चान्दनी में मन *
surenderpal vaidya
Loading...