Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2022 · 1 min read

यादें

तेरे लबों पर मेरी फिक्र तो हो
तेरे शहर के अखबार में
मेरा कोई जिक्र तो हो !

मैं जब लु सांस
तब तुम उसे थाम लेना
ना हो कोई जब तेरे आस-पास
तब तुम मेरा नाम लेना !

कहता था मैं तुझे रात की चांदनी
दिखे जब कोई तुझे टूटा तारा
अब भी मुझे तुम मांग लेना !

तेरे बिन सोया नहीं जाता
कंधे पर सर रखकर
अब किसी के रोया नहीं जाता !

तेरा था तेरा ही रहूंगा
तेरे बाद किसी का अब
होया नहीं जाता !!

Language: Hindi
215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
घर-घर एसी लग रहे, बढ़ा धरा का ताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
शादी ..... एक सोच
शादी ..... एक सोच
Neeraj Agarwal
कितना भी दे  ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
कितना भी दे ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
Dr Archana Gupta
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तानाशाहों का हश्र
तानाशाहों का हश्र
Shekhar Chandra Mitra
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
"दिल कहता है"
Dr. Kishan tandon kranti
निकलो…
निकलो…
Rekha Drolia
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
*मैं अमर आत्म-पद या मरणशील तन【गीत】*
Ravi Prakash
// दोहा ज्ञानगंगा //
// दोहा ज्ञानगंगा //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"किसान"
Slok maurya "umang"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
वो तुम्हीं तो हो
वो तुम्हीं तो हो
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री एक कविता है
स्त्री एक कविता है
SATPAL CHAUHAN
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
बरस रहे है हम ख्वाबो की बरसात मे
देवराज यादव
मातु भवानी
मातु भवानी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
💐प्रेम कौतुक-344💐
💐प्रेम कौतुक-344💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
जो कभी मिल ना सके ऐसी चाह मत करना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चक्रवृद्धि प्यार में
चक्रवृद्धि प्यार में
Pratibha Pandey
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
प्रेम पर बलिहारी
प्रेम पर बलिहारी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
प्यार इस कदर है तुमसे बतायें कैसें।
Yogendra Chaturwedi
Loading...