Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Sep 2016 · 1 min read

यादें

जैसे कोई बुझता हुआ दीपक ,
तेज रोशनी से अँधेरे को रोशन कर जाए ।
यादों से आज भी कुछ गुलशन महके हुए लगते है ।

मस्ती कहाँ थी जाम को पीने की ,
वो तो मजबूरी थी यादों को भुलाने की
पीने दे ऐ साकी फिर से तेरी नजरों से
आज भी कशिश है बाकी उनकी यादों की ।।

कभी सोचा था वीराने भी किसी सजा से कम नहीं ,
आज जाने क्यों वो खंडहर भी अपने जैसे लगते हैं ।

Language: Hindi
420 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Versha Varshney
View all
You may also like:
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
बस इतना सा दे अलहदाई का नज़राना,
ओसमणी साहू 'ओश'
इतना ना हमे सोचिए
इतना ना हमे सोचिए
The_dk_poetry
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
तू ही है साकी तू ही मैकदा पैमाना है,
Satish Srijan
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आया सूरज खिल उठा, धरती का नव-गात (कुंडलियां)*
*आया सूरज खिल उठा, धरती का नव-गात (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
" ज़ेल नईखे सरल "
Chunnu Lal Gupta
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
नकाबे चेहरा वाली, पेश जो थी हमको सूरत
gurudeenverma198
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta,Alwar
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
आप  की  मुख्तसिर  सी  मुहब्बत
आप की मुख्तसिर सी मुहब्बत
shabina. Naaz
#एक_गजल
#एक_गजल
*Author प्रणय प्रभात*
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
चीख की लय
चीख की लय
Shekhar Chandra Mitra
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
लिबास दर लिबास बदलता इंसान
Harminder Kaur
लो विदा अब
लो विदा अब
Dr. Girish Chandra Agarwal
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
सिनेमा,मोबाइल और फैशन और बोल्ड हॉट तस्वीरों के प्रभाव से आज
Rj Anand Prajapati
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
मेरे बाबूजी लोककवि रामचरन गुप्त +डॉ. सुरेश त्रस्त
कवि रमेशराज
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
अंबर तारों से भरा, फिर भी काली रात।
लक्ष्मी सिंह
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सकारात्मकता
सकारात्मकता
Sangeeta Beniwal
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुक्तक
मुक्तक
Suryakant Dwivedi
Loading...