Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2023 · 1 min read

यह सुहाना सफर अभी जारी रख

यह सुहाना सफर अभी जारी रख
जीने की तरकीबें भी सारी रख,
पर मौत कभी कहकर नहीं आती
इसलिए उसकी भी तैयारी रख।
a m prahari

1 Like · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
गैरों से कोई नाराजगी नहीं
Harminder Kaur
फागुन
फागुन
Punam Pande
सुकरात के मुरीद
सुकरात के मुरीद
Shekhar Chandra Mitra
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
रात के अंधेरे में नसीब आजमाना ठीक नहीं है
कवि दीपक बवेजा
सफर कितना है लंबा
सफर कितना है लंबा
Atul "Krishn"
आज की प्रस्तुति: भाग 7
आज की प्रस्तुति: भाग 7
Rajeev Dutta
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
Few incomplete wishes💔
Few incomplete wishes💔
Vandana maurya
बिल्ली की तो हुई सगाई
बिल्ली की तो हुई सगाई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
#काकोरी_दिवस_आज
#काकोरी_दिवस_आज
*Author प्रणय प्रभात*
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
gurudeenverma198
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
नैतिकता ज़रूरत है वक़्त की
Dr fauzia Naseem shad
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
*थोड़ा गुस्सा तो चलेगा, किंतु अति अच्छी नहीं (मुक्तक)*
*थोड़ा गुस्सा तो चलेगा, किंतु अति अच्छी नहीं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Saso ke dayre khuch is kadar simat kr rah gye
Sakshi Tripathi
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
🌹ओ साहिब जी,तुम मेरे दिल में जँचे हो🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ते
रिश्ते
Sanjay ' शून्य'
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
Quote - If we ignore others means we ignore society. This way we ign
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...