Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

~~~ यह तेरा नाम ~~~

लिख कर तेरा नाम जमीन पर
मिटाने की हिम्मत कहाँ से लाऊँ
अपने दिल की सीमा का
वो प्यार, कैसे तुम को दिख्लाऊँ !!

वो स्नेह , वो अम्बार प्यार
का कैसे अब दिखाऊं
लिखा नाम हर नजर से
छूपा छुपा कर
साइन में दफ़न कर जाऊं !!

बेपनाह मोहोब्बत की
है मैने तुझ से संसार में
तो कैसे इस नाम को
सब के बीच उछलाऊँ !!

जिन्दगी का वो हसीन पल
था जो मुझ को मिला
दिल में बसा कर , तेरे नाम
संग अब अपना जीवन बिताऊं !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
मन के सवालों का जवाब नाही
मन के सवालों का जवाब नाही
भरत कुमार सोलंकी
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
हर किसी का कर्ज़ चुकता हो गया
Shweta Soni
_देशभक्ति का पैमाना_
_देशभक्ति का पैमाना_
Dr MusafiR BaithA
दिल का दर्द💔🥺
दिल का दर्द💔🥺
$úDhÁ MãÚ₹Yá
"जिन्दगी में"
Dr. Kishan tandon kranti
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
कागज़ की नाव सी, न हो जिन्दगी तेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
बापू गाँधी
बापू गाँधी
Kavita Chouhan
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
हास्य गीत
हास्य गीत
*प्रणय प्रभात*
*दोहा*
*दोहा*
Ravi Prakash
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
Sonam Puneet Dubey
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
गालगागा गालगागा गालगागा
गालगागा गालगागा गालगागा
Neelam Sharma
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकृति
प्रकृति
Seema Garg
बिना चले गन्तव्य को,
बिना चले गन्तव्य को,
sushil sarna
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
सुबुधि -ज्ञान हीर कर
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कौन-सो रतन बनूँ*
*कौन-सो रतन बनूँ*
Poonam Matia
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
तुम ही तुम हो
तुम ही तुम हो
मानक लाल मनु
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंसान और कुता
इंसान और कुता
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
“फेसबूक मित्रों की बेरुखी”
DrLakshman Jha Parimal
कानून अंधा है
कानून अंधा है
Indu Singh
Loading...