Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

यह तुमने क्या किया है

यह तुमने क्या किया है, तोड़कर यह दिल मेरा।
कैसे दुश्मन मान लिया है, तुमने मुझको तेरा।।
यह तुमने क्या किया है——————-।।

मैंने कभी सोचा नहीं, कोई पाप तेरे लिए।
प्यार किया है तुमसे, ख्वाब बुने हैं तेरे लिए।।
कर दिये खाक तुमने सपनें, छोड़कर यह साथ मेरा।
यह तुमने क्या किया है——————-।।

तुमको क्या मालूम नहीं था,रहूंगा तेरे बिन मैं कैसे।
हो सकते हैं रोशन सितारें, बिन तुम्हारे दोस्त कैसे।।
क्यों तुमने मोड़ लिया है, मुझसे ऐसे चेहरा तेरा।
यह तुमने क्या किया है———————।।

छुपा रखा था अब तक जो,खुल्लेआम अब होगा।
होगी कितनी बदनामी और अंजाम इसका क्या होगा।।
आग लगाकर जला दिया है, तुमने क्यों यह घर मेरा।
यह तुमने क्या किया है———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
77 Views
You may also like:
नववर्ष
नववर्ष
Vijay kumar Pandey
मेरा दर्पण
मेरा दर्पण
Shiva Awasthi
*गिरिधर कविराय सम्मान*
*गिरिधर कविराय सम्मान*
Ravi Prakash
गौतम बुद्ध रूप में इंसान ।
गौतम बुद्ध रूप में इंसान ।
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-174💐
💐प्रेम कौतुक-174💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवनमंथन
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
बढ़ने वाला बढ़ रहा, तू यूं ही सोता रह...
AMRESH KUMAR VERMA
दिल में हमारे देशप्रेम है
दिल में हमारे देशप्रेम है
gurudeenverma198
कि सब ठीक हो जायेगा
कि सब ठीक हो जायेगा
Vikram soni
फुलों कि  भी क्या  नसीब है साहब,
फुलों कि भी क्या नसीब है साहब,
Radha jha
■ सलामत रहिए
■ सलामत रहिए
*Author प्रणय प्रभात*
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
जगदीश लववंशी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह जी
व्यक्ति नही व्यक्तित्व अस्ति नही अस्तित्व यशस्वी राज नाथ सिंह...
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अपनी इस्लाह बहुत ज़रूरी है
अपनी इस्लाह बहुत ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
फिक्र (एक सवाल)
फिक्र (एक सवाल)
umesh mehra
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
चंद किरणे चांद की चंचल कर गई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
तेरी मिट्टी के लिए अपने कुएँ से पानी बहाया है
'अशांत' शेखर
नहीं    माँगूँ  बड़ा   ओहदा,
नहीं माँगूँ बड़ा ओहदा,
Satish Srijan
"म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के"
Abdul Raqueeb Nomani
STOP looking for happiness in the same place you lost it....
STOP looking for happiness in the same place you lost...
सोनम राय
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
करके कोई साजिश गिराने के लिए आया
कवि दीपक बवेजा
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जातिगत आरक्षण
जातिगत आरक्षण
Shekhar Chandra Mitra
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पेपर वाला
पेपर वाला
मनोज कर्ण
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Dr Archana Gupta
यू ही
यू ही
shabina. Naaz
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
होली की हार्दिक शुभकामनाएं🎊
Aruna Dogra Sharma
Loading...