Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

यह तुमने क्या किया है

यह तुमने क्या किया है, तोड़कर यह दिल मेरा।
कैसे दुश्मन मान लिया है, तुमने मुझको तेरा।।
यह तुमने क्या किया है——————-।।

मैंने कभी सोचा नहीं, कोई पाप तेरे लिए।
प्यार किया है तुमसे, ख्वाब बुने हैं तेरे लिए।।
कर दिये खाक तुमने सपनें, छोड़कर यह साथ मेरा।
यह तुमने क्या किया है——————-।।

तुमको क्या मालूम नहीं था,रहूंगा तेरे बिन मैं कैसे।
हो सकते हैं रोशन सितारें, बिन तुम्हारे दोस्त कैसे।।
क्यों तुमने मोड़ लिया है, मुझसे ऐसे चेहरा तेरा।
यह तुमने क्या किया है———————।।

छुपा रखा था अब तक जो,खुल्लेआम अब होगा।
होगी कितनी बदनामी और अंजाम इसका क्या होगा।।
आग लगाकर जला दिया है, तुमने क्यों यह घर मेरा।
यह तुमने क्या किया है———————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

Language: Hindi
Tag: गीत
169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅खटारा सरकार🙅
🙅खटारा सरकार🙅
*प्रणय प्रभात*
*लू के भभूत*
*लू के भभूत*
Santosh kumar Miri
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
क्या हमारी नियति हमारी नीयत तय करती हैं?
Soniya Goswami
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
क्या कहती है तस्वीर
क्या कहती है तस्वीर
Surinder blackpen
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कविता- घर घर आएंगे राम
कविता- घर घर आएंगे राम
Anand Sharma
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
अंत ना अनंत हैं
अंत ना अनंत हैं
TARAN VERMA
नालंदा जब  से  जली, छूट  गयी  सब आस।
नालंदा जब से जली, छूट गयी सब आस।
गुमनाम 'बाबा'
दर्द
दर्द
Dr. Seema Varma
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं  मैं।
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
बुढ़ादेव तुम्हें नमो-नमो
नेताम आर सी
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
जीवन में मोह माया का अपना रंग है।
Neeraj Agarwal
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सबला
सबला
Rajesh
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जरूरत के वक्त जब अपने के वक्त और अपने की जरूरत हो उस वक्त वो
जरूरत के वक्त जब अपने के वक्त और अपने की जरूरत हो उस वक्त वो
पूर्वार्थ
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
Rituraj shivem verma
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
तेवरी को विवादास्पद बनाने की मुहिम +रमेशराज
कवि रमेशराज
व्यवहार अपना
व्यवहार अपना
Ranjeet kumar patre
Stay grounded
Stay grounded
Bidyadhar Mantry
प्यार की कस्ती पे
प्यार की कस्ती पे
Surya Barman
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Monika Verma
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
Loading...