Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

” यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है

” यह जिंदगी क्या क्या कारनामे करवा रही है
जिसकी कोई कीमत नहीं वो काम करवा रही है

जिसको पनाह दी थी मेंने अपने दिल के घर में
वही याद आहिस्ता आहिस्ता मुझको खा रही है”

कवि दीपक सरल

2 Likes · 418 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
वक्त इतना बदल गया है क्युँ
Shweta Soni
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*प्रणय प्रभात*
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
निराशा क्यों?
निराशा क्यों?
Sanjay ' शून्य'
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
सविधान दिवस
सविधान दिवस
Ranjeet kumar patre
बहुत टूट के बरसा है,
बहुत टूट के बरसा है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
हनुमान जी के गदा
हनुमान जी के गदा
Santosh kumar Miri
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
किसकी कश्ती किसका किनारा
किसकी कश्ती किसका किनारा
डॉ० रोहित कौशिक
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
करता नहीं यह शौक तो,बर्बाद मैं नहीं होता
gurudeenverma198
* जिन्दगी में *
* जिन्दगी में *
surenderpal vaidya
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
2944.*पूर्णिका*
2944.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"किस किस को वोट दूं।"
Dushyant Kumar
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
ज़िंदगी ऐसी कि हर सांस में
Dr fauzia Naseem shad
ढलती हुई दीवार ।
ढलती हुई दीवार ।
Manisha Manjari
कड़वा सच
कड़वा सच
Jogendar singh
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
कविता के अ-भाव से उपजी एक कविता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"नाश के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...