Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2023 · 2 min read

यह ज़िंदगी है आपकी

इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं कि यह ज़िन्दगी आपकी है और आपका पूरा हक़ बनता है कि आप अपनी ज़िन्दगी को अपने अंदाज़ में और अपने हिसाब से जियें, और इसके लिए बहुत ज़रूरी है कि आप कभी भी स्वयं को किसी के नज़रिये से देखने का प्रयास न करे, कोई आपके बारें में क्या विचारधारा रखता है, क्या सोचता है, सोचने दें, ये उसकी मानसिकता पर छोड़ें, आप बस अपनी नज़रों से स्वयं को देखें और इस बात पर पूर्ण विश्वास रखें कि आपको आपसे बेहतर कोई नहीं समझता और न ही समझ सकता है, इसलिए अपनी सोच को हर सोच से हमेशा ऊपर रखें, स्वयं को पर्याप्त समय दे, स्वयं से प्यार करें वहीं अपनी भावनाओं और अपने विचारो का सम्मान भी करें, दूसरों के विचारो को सुने, समझें वहीं अपने दृष्टिकोण और विचारो को भी दूसरों के समक्ष रखना सीखें, अपने जीवन में हां और न के महत्व को समझें और उसका सही स्थान पर प्रयोग करना भी सीखें, दूसरों के प्रभावशाली व्यक्तित्व के आगे स्वयं को कमतर समझने या कमतर आंकने की भूल, भूल कर भी न करें और न ही कभी स्वयं की तुलना दूसरों से करें।
बहरहाल आप हो या मैं हम सब में विशेषताओं का अथाह भंडार छुपा हुआ है, आवश्यकता तो केवल हमारे और आपके प्रयासो के माध्यम से उन विशेषताओं को स्वयं का मूल्य समझ लेता है वो जीवन में कभी असफलता का मुंह नहीं देखता और जो इस ज़िन्दगी के महत्व को समझ कर भी नहीं समझता वो कब इस दुनिया में आता है और कब चला जाता है किसी को ज्ञात नहीं होता इसलिए हमारा प्रयास होना चाहिए कि हम गुमनाम मौत न मरे, अपनी ज़िन्दगी में कुछ ऐसा सार्थक करने का प्रयास करें कि दुनिया में हमें जीते जी ही नहीं हमारे न होने के उपरान्त भी हमें हमारी उपलब्धियों के लिए याद करें, इसलिए बहुत आवश्यक है कि हम समय की कद्र करना सीखें और ज़िन्दगी के महत्व को समझें अपनी क्षमताओं और विशेषताओं को पहचाने कल की चिंता को छोड़ कर बस आज में जीना सीखें, व्यर्थ के तनाव को अपने पास भी न फटकने, ध्यान रहे कि उम्मीदों का अधिक दवाब भी आपकी सांसों का बोझ बनता है जो आपके स्वास्थ्य को खराब करने का महत्वपूर्ण कारण बनता है, इसलिए अधिक उम्मीदों को अलविदा कहें, शान्त मन और शान्त दिमाग़ से अपनी समस्याओं का समाधान तलाशे, अन्त में बस इतना ही कहूँगी कि यह ज़िन्दगी आपकी है और इसे कैसे जीना है और कैसे यादगार बनाना है आपसे बेहतर कोई नहीं जानता इसलिए जिये अपनी ज़िन्दगी भरपूर तरीके से अपने अंदाज़ में ज्ञात रहे तभी है। आपकी ज़िन्दगी जब आप हैं आप नहीं तो फिर इस ज़िन्दगी के कोई मायने नहीं रह जाते हैं बाकी आप स्वयं समझदार हैं।
डॉ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
8 Likes · 200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
दोहा
दोहा
sushil sarna
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
सह जाऊँ हर एक परिस्थिति मैं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
2618.पूर्णिका
2618.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मैं उन लोगो में से हूँ
मैं उन लोगो में से हूँ
Dr Manju Saini
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
■ परम् स्वतंत्र न सिर पर कोऊ। हर नियम-विधान, लोक-लाज, मूल्य
■ परम् स्वतंत्र न सिर पर कोऊ। हर नियम-विधान, लोक-लाज, मूल्य
*प्रणय प्रभात*
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
प्रारब्ध भोगना है,
प्रारब्ध भोगना है,
Sanjay ' शून्य'
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
तलाशी लेकर मेरे हाथों की क्या पा लोगे तुम
शेखर सिंह
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
Neeraj Agarwal
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
हमारी शाम में ज़िक्र ए बहार था ही नहीं
Kaushal Kishor Bhatt
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*वीरस्य भूषणम् *
*वीरस्य भूषणम् *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितना
कितना
Santosh Shrivastava
"रहबर"
Dr. Kishan tandon kranti
क्रोध
क्रोध
Mangilal 713
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
DrLakshman Jha Parimal
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
Loading...