Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

यह गोकुल की गलियां,

यह गोकुल की गलियां,
जहाँ कृष्ण के नटखट खेल होते हैं।
वहाँ गोपियाँ चरम भक्ति से जल होती हैं।

गोकुल में गोपाल,
माखन चोरी करते राधिका के नाम पे।
नंदगोप जी के यशोदा जी का गुरुकुल यहाँ है,
बच्चों के आतंक की खबर उन्हें होती रातों में।

धूप के साये में खेलते हैं बांसुरी धुन,
गाते हैं गोपाल कृष्ण की माखन मोहन।
बंसी गान में खो जाते हैं सब,
आत्मा की शांति में शांत हो जाते हैं सब।

माखन चोरी करते हैं चोरी मक्खन,
गोपाल की अदालत में सबको भला ठहराते हैं।
रासलीला में जाते हैं राधा के संग,
भगवान कृष्ण का रंग जग में ओर बिखराते हैं।

हरि नाम का जाप करते हैं, केवल हरि ही सुनते हैं।
गोपियाँ हरिंग की तरह भक्ति के पथ पर चलते हैं।
जग में गोपाल के द्वारे निर्मित हैं ये गलियां,
गोकुल की गलियां जहाँ भगवान कृष्ण का वास होता हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा

284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर्फ़ सवालों तक ही
सिर्फ़ सवालों तक ही
पूर्वार्थ
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
गंदे-मैले वस्त्र से, मानव करता शर्म
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिन्दा हो तो,
जिन्दा हो तो,
नेताम आर सी
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशबू चमन की।
खुशबू चमन की।
Taj Mohammad
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
कविता
कविता
Rambali Mishra
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
डर के आगे जीत है
डर के आगे जीत है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
उफ़ ये कैसा असर दिल पे सरकार का
Jyoti Shrivastava(ज्योटी श्रीवास्तव)
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
फूल
फूल
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■सत्ता के लिए■
■सत्ता के लिए■
*प्रणय प्रभात*
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
*सुबह हुई तो गए काम पर, जब लौटे तो रात थी (गीत)*
Ravi Prakash
♥️
♥️
Vandna thakur
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
देवर्षि नारद जी
देवर्षि नारद जी
Ramji Tiwari
भय -भाग-1
भय -भाग-1
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हार गए तो क्या हुआ?
हार गए तो क्या हुआ?
Praveen Bhardwaj
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
बेवफा
बेवफा
Neeraj Agarwal
खुद्दार
खुद्दार
अखिलेश 'अखिल'
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
मूक संवेदना
मूक संवेदना
Buddha Prakash
Loading...