Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

यह क्या अजीब ही घोटाला है,

यह क्या अजीब ही घोटाला है,
डाल रही , उभरती कौम का जोश, नियति के गले में वरमाला है।
खुद के जुनून को पंगु बना रहे हैं,
सफलता के अवसरों को खुद से जुदा करवा रहे हैं।
अरे कोई इनको शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ जी की कविता तो दिखाओ,
चलना हमारा काम है, धर्म है, कोई तो इनको समझाओ।

1 Like · 109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूखे हैं कुछ लोग !
भूखे हैं कुछ लोग !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
खरगोश
खरगोश
SHAMA PARVEEN
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
मित्रो नमस्कार!
मित्रो नमस्कार!
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
एक ख़्वाहिश
एक ख़्वाहिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मानव पहले जान ले,तू जीवन  का सार
मानव पहले जान ले,तू जीवन का सार
Dr Archana Gupta
23/165.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/165.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐अज्ञात के प्रति-138💐
💐अज्ञात के प्रति-138💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त
वक्त
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"झूठी है मुस्कान"
Pushpraj Anant
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
झूठ बोलते हैं वो,जो कहते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
"वेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
हनुमानजी
हनुमानजी
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
दो दोस्तों में दुश्मनी - Neel Padam
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या  है
तेरी मुस्कराहटों का राज क्या है
Anil Mishra Prahari
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
जिस बाग में बैठा वहां पे तितलियां मिली
कृष्णकांत गुर्जर
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यदि मन में हो संकल्प अडिग
यदि मन में हो संकल्प अडिग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla 781
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
Loading...