Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2024 · 1 min read

यह कैसा आया ज़माना !!( हास्य व्यंग्य गीत गजल)

तौबा ! यह कैसा आया है ज़माना,
बहुत मुश्किल है दिल को समझाना।

इंसानी रिश्तों से बढ़कर हो गया है ,
उनकी खुदगर्जी का बढ़ता पैमाना ।

जानवर तो बहुत होंगे इस जहां में
मगर कुत्तों पर हुआ दिल आशिकाना।

कुत्ते भी यह कोई आम नहीं है जनाब!
विदेशी नस्ल के महंगे बिकते सरे आम ।

इंतहा देखिए की घर की सारी कमाई ,
इनके ऐशो इशरत में खर्च होती तमाम ।

जरा इनके ठाठ और शान तो देखिए ,
किसी शहजादे से कम नहीं ताम झाम।

सदियो से पूजनीय गाय की बेकद्री ,
और इन हजरात को मिलता ऐशो आराम ।

भले ही आपको कोई फूटी आंख न सुहाए,
मगर ” लाडले ” के तो बड़े हुए हैं दाम ।

इनको ग़ुसल,खान पान और सैर सपाटा,
सारी खिदमत के लिए हाजिर है गुलाम ।

बूढ़े माता पिता तक को न दें इज्जत भी, चुंकी कुत्तों के हिस्से जो जाता एहतराम।

अब तुम्हें क्या कहें हम ए दुनिया वालो !
इनके लिए होश खो बैठे हो अपने तमाम।

अगर इतना ही रहम ओ करम रखते हो दिल में ,
तो मजलूम / बेसहारा जानवरों के लिए भी रखो न!
तभी तो होगा इंसानियत के फरिश्तों में तुम्हारा नाम ।

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
" महखना "
Pushpraj Anant
अँधेरे में नहीं दिखता
अँधेरे में नहीं दिखता
Anil Mishra Prahari
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
कौर दो कौर की भूख थी
कौर दो कौर की भूख थी
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
हालात ही है जो चुप करा देते हैं लोगों को
Ranjeet kumar patre
धरती के सबसे क्रूर जानवर
धरती के सबसे क्रूर जानवर
*Author प्रणय प्रभात*
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
*बताओं जरा (मुक्तक)*
*बताओं जरा (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
सुबह की पहल तुमसे ही
सुबह की पहल तुमसे ही
Rachana Jha
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
सुबह की नींद सबको प्यारी होती है।
Yogendra Chaturwedi
सुबह-सुबह की बात है
सुबह-सुबह की बात है
Neeraj Agarwal
" जब तक आप लोग पढोगे नहीं, तो जानोगे कैसे,
शेखर सिंह
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
सच में शक्ति अकूत
सच में शक्ति अकूत
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
राजनीतिकों में चिंता नहीं शेष
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2626.पूर्णिका
2626.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
Loading...