Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

यह कलयुग है

(शेर)- मानवता के खून का, दौर चल रहा है।
नीलाम करके इंसानियत, इंसान हंस रहा है।।
बन गया है इंसान अब एक कलपुर्जे की तरह।
मर चुकी है आत्मा,और कलयुग चल रहा है।।
———————————————————–
छोटी सी बात पे, बतंगड़ बन जाता है।
और झट से इंसान, शैतान बन जाता है।।
असहनशीलता – हिंसा का, यह कैसा युग है।
यह कलयुग है——————–(4)
छोटी सी बात पे———————।।

औलाद, माँ-बाप को बेघर कर रही है।
माँ-बाप के साथ में, मारपीट कर रही है।।
संस्कारहीनता- पापों, का, यह कैसा युग है।
यह कलयुग है——————–(4)
छोटी सी बात पे———————।।

मौत के मातम पे, मदिरा चल रही है।
अपनों के हाथों इज्जत, नारी की लुट रही है।।
रिश्तों की नीलामी – पशुता का, यह कैसा युग है।
यह कलयुग है———————(4)
छोटी सी बात पे ——————–।।

दया,शर्म, समझदारी, अब बहुत कम है।
मुल्क से वफादारी, इंसानियत कम है।।
व्यभिचार और गद्दारी का, यह कैसा युग है।
यह कलयुग है———————(4)
छोटी सी बात पे——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
भावनाओं का प्रबल होता मधुर आधार।
surenderpal vaidya
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
"द्रौपदी का चीरहरण"
Ekta chitrangini
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
मैं पलट कर नही देखती अगर ऐसा कहूँगी तो झूठ कहूँगी
ruby kumari
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
मेरी नज़रों में इंतिख़ाब है तू।
Neelam Sharma
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
■ बात बात में बन गया शेर। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
कभी उन बहनों को ना सताना जिनके माँ पिता साथ छोड़ गये हो।
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
साधक
साधक
सतीश तिवारी 'सरस'
राजनीति और वोट
राजनीति और वोट
Kumud Srivastava
"चाह"
Dr. Kishan tandon kranti
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
संस्कारों और वीरों की धरा...!!!!
Jyoti Khari
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Awadhesh Singh
रिहाई - ग़ज़ल
रिहाई - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
भटक रहे अज्ञान में,
भटक रहे अज्ञान में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
आदमी का मानसिक तनाव  इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
आदमी का मानसिक तनाव इग्नोर किया जाता हैं और उसको ज्यादा तवज
पूर्वार्थ
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
*The Bus Stop*
*The Bus Stop*
Poonam Matia
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षा
शिक्षा
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/158.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
स्वामी श्रद्धानंद का हत्यारा, गांधीजी को प्यारा
कवि रमेशराज
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*वैराग्य (सात दोहे)*
*वैराग्य (सात दोहे)*
Ravi Prakash
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
Loading...