Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि श

यह आत्मा ही है जो अस्तित्व और ज्ञान का अनुभव करती है ना कि शरीर और मन क्योंकि इन दोनों पदार्थों को आत्मा का ढेर माना जाता है….✍️💯🙏

9 Views
You may also like:
प्रोत्साहन
प्रोत्साहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
औरत
औरत
Rekha Drolia
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
मन का घाट
मन का घाट
Rashmi Sanjay
मुक्तक
मुक्तक
Dr. Girish Chandra Agarwal
गीता के स्वर (2) शरीर और आत्मा
गीता के स्वर (2) शरीर और आत्मा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
■ जय मुंगेरी लाल की...
■ जय मुंगेरी लाल की...
*Author प्रणय प्रभात*
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
✍️प्रेम की राह पर-72✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहावली...(११)
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
सिर्फ टी डी एस काट के!
सिर्फ टी डी एस काट के!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अतिथि तुम कब जाओगे
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
🚩परशु-धार-सम ज्ञान औ दिव्य राममय प्रीति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल में आने की बात।
दिल में आने की बात।
Anil Mishra Prahari
बेटियाँ, कविता
बेटियाँ, कविता
Pakhi Jain
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
Seema Verma
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
क्या ढूढे मनुवा इस बहते नीर में
rekha mohan
*बच्चे (कुंडलिया)*
*बच्चे (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सांप्रदायिक उन्माद
सांप्रदायिक उन्माद
Shekhar Chandra Mitra
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
“ कितने तुम अब बौने बनोगे ?”
DrLakshman Jha Parimal
ख्वाहिशों का टूटता हुआ मंजर....
ख्वाहिशों का टूटता हुआ मंजर....
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ख़्वाब पर लिखे कुछ अशआर
ख़्वाब पर लिखे कुछ अशआर
Dr fauzia Naseem shad
श्रद्धा
श्रद्धा
मनोज कर्ण
वियोग
वियोग
पीयूष धामी
नायक देवेन्द्र प्रताप सिंह
नायक देवेन्द्र प्रताप सिंह
नूरफातिमा खातून नूरी
मैं आजादी तुमको दूंगा,
मैं आजादी तुमको दूंगा,
Satish Srijan
त्रिशरण गीत
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
शेर
शेर
pradeep nagarwal
Loading...