Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2023 · 1 min read

यह आखिरी खत है हमारा

यह आखिरी खत है हमारा, अब नहीं लिखेंगे तुमको खत।
तुमने दिया ही क्या है हमें , कि हम करें तुमको मोहब्बत।।
यह आखिरी खत है हमारा———————।।

हमने हमेशा कोशिश की, तुमको खुश रखने को हमेशा।
मिली बददुहायें बदले में, किया नाराज हमको हमेशा।।
लगा दिये हमपे इल्जाम बहुत, ऐसी की हमारी फजीहत।
यह आखिरी खत है हमारा———————।।

हमको खिलौना तुमने समझकर, खेला हमसे जीभरकै।
कर लिया आबाद खुद को, बर्बाद हमको तुमने करकै।।
तुमको पवित्र माने कैसे,बेच दी तुमने शर्मो- इज्जत।
यह आखिरी खत है हमारा———————।।

तुमको है चाह दौलत की, यह सब मिल जायेगा तुम्हें।
होगा दीवाना तेरे हुस्न का वो, कभी सुख नहीं देगा तुम्हें।।
होगी अगर बर्बादी तेरी, आँसू नहीं बहायेंगे हम उस वक़्त।
यह आखिरी खत है हमारा——————–।।

हमसे ज्यादा यहाँ कौन तुमको, अच्छी तरह समझेगा।
जो अपने दिल के लहू से, गुलशन तेरा यह सींचेगा।।
लिख रहे हैं हम अंत में अब,तेरी नहीं हमको जरूरत।
यह आखिरी खत है हमारा——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
पहाड़ पर बरसात
पहाड़ पर बरसात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पेइंग गेस्ट
पेइंग गेस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
इसकी तामीर की सज़ा क्या होगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
त्रुटि ( गलती ) किसी परिस्थितिजन्य किया गया कृत्य भी हो सकता
Leena Anand
मुझे सोते हुए जगते हुए
मुझे सोते हुए जगते हुए
*Author प्रणय प्रभात*
क्या कहें
क्या कहें
Dr fauzia Naseem shad
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
मुश्किलें जरूर हैं, मगर ठहरा नहीं हूँ मैं ।
पूर्वार्थ
मैं तुम्हें यूँ ही
मैं तुम्हें यूँ ही
हिमांशु Kulshrestha
बौराये-से फूल /
बौराये-से फूल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
मैं सोचता हूँ कि आखिर कौन हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
रास्ता दुर्गम राह कंटीली, कहीं शुष्क, कहीं गीली गीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" गुरु का पर, सम्मान वही है ! "
Saransh Singh 'Priyam'
2464.पूर्णिका
2464.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
देखिए आईपीएल एक वह बिजनेस है
शेखर सिंह
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
मज़हब नहीं सिखता बैर 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
"रियायत के रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
मेरे दिल के खूं से, तुमने मांग सजाई है
gurudeenverma198
Loading...