Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का

यही सच है कि हासिल ज़िंदगी का
मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं है
Neeraj Naveed

164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
हम हैं कक्षा साथी
हम हैं कक्षा साथी
Dr MusafiR BaithA
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
मर्द की कामयाबी के पीछे माँ के अलावा कोई दूसरी औरत नहीं होती
Sandeep Kumar
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
मईया एक सहारा
मईया एक सहारा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
#गुरू#
#गुरू#
rubichetanshukla 781
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
अनंतनाग में परचम फहरा गए
अनंतनाग में परचम फहरा गए
Harminder Kaur
जीवन के किसी भी
जीवन के किसी भी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
कुछ लोगो का दिल जीत लिया आकर इस बरसात ने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
*बहुत सस्ते में सौदा हो गया लोगों के वोटों का (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
🎊🎉चलो आज पतंग उड़ाने
Shashi kala vyas
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
दफ़न हो गई मेरी ख्वाहिशे जाने कितने ही रिवाजों मैं,l
गुप्तरत्न
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
साथ अगर उनका होता
साथ अगर उनका होता
gurudeenverma198
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...