Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2024 · 1 min read

यही रात अंतिम यही रात भारी।

यही रात अंतिम यही रात भारी।

आनंद अतिरेक अनुपम अबोला,
अदभुद ही आएगा प्राची से डोला,
कण कण सुवासित प्रभासित करेगा,
उपहार लाएगा किरणों का मेला,
वंचित न कर देना कल की सुबह से,
करुण प्रार्थना तुमसे कोदंड धारी।

यही रात अंतिम यही रात भारी।

नूतन जगत का कमल कल खिलेगा,
कलंकित कलह कीच का तम मिटेगा,
सदियों के दासत्व का अंत होगा,
सुधा सोम संगम सनातन सजेगा,
समर्पित था तुमको समर्पित रहूंगा,
समर्पित हूं तुमको अवध के बिहारी।

यही रात अंतिम यही रात भारी।

कराएंगे परिचित तुम्हारे कवित से,
सिखाएंगे जीना तुम्हारे चरित से,
संहार दुष्टों का कैसे हैं करते,
व्यवहार कैसा उचित है दमित से,
तुम्ही बीज ब्रह्मांड पादप तुम्ही हो,
त्रिदेव तुम राम तुम ही मुरारी।

यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans

Language: Hindi
Tag: गीत
66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"परिपक्वता"
Dr Meenu Poonia
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
कोई आयत सुनाओ सब्र की क़ुरान से,
Vishal babu (vishu)
*सत्य की खोज*
*सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
माफ कर देना मुझको
माफ कर देना मुझको
gurudeenverma198
के कितना बिगड़ गए हो तुम
के कितना बिगड़ गए हो तुम
Akash Yadav
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
अक्सर हम ज़िन्दगी में इसलिए भी अकेले होते हैं क्योंकि हमारी ह
पूर्वार्थ
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
आशार
आशार
Bodhisatva kastooriya
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
हद्द - ए - आसमाँ की न पूछा करों,
manjula chauhan
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
तन्हा हूं,मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
व्यक्ति महिला को सब कुछ देने को तैयार है
शेखर सिंह
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"चालाकी"
Ekta chitrangini
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
अब उतरते ही नही आँखों में हसींन कुछ ख़्वाब
'अशांत' शेखर
*करिए जीवन में सदा, प्रतिदिन पावन योग (कुंडलिया)*
*करिए जीवन में सदा, प्रतिदिन पावन योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बीती रात मेरे बैंक खाते में
बीती रात मेरे बैंक खाते में
*Author प्रणय प्रभात*
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
लाल दशरथ के है आने वाले
लाल दशरथ के है आने वाले
Neeraj Mishra " नीर "
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
" अकेलापन की तड़प"
Pushpraj Anant
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
"चाहत का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
यादों की किताब बंद करना कठिन है;
Dr. Upasana Pandey
Loading...