Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

*यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गी

यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं ( हिंदी गजल/गीतिका)
—————————–
(1)
यहॉं संसार के सब दृश्य, पल-प्रतिपल बदलते हैं
कभी हैं दौर दुख के तो, कभी खुशियों के चलते हैं
(2)
यहाँ पर चाहतें सबकी, सभी पूरी नहीं होतीं
हजारों आँख के सपने, चिता के साथ जलते हैं
(3)
समय इंसान को बूढ़ा, बना तो देता है लेकिन
जवानी की तरह दिल में, कई अरमान पलते हैं
(4)
बुरे कामों को करने में, मिनट की देर लगती है
मगर जो काम अच्छे हैं, वो सालों-साल टलते हैं
(5)
बुरे लोगों की कर्कशता, दुखी फिर भी नहीं करती
भले लोगों की चुप्पी से, भरे व्यवहार खलते हैं
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर ( उ. प्र.)
मोबाइल 9997615451

412 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
अवावील की तरह
अवावील की तरह
abhishek rajak
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
आँखों से काजल चुरा,
आँखों से काजल चुरा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
दूसरों की लड़ाई में ज्ञान देना बहुत आसान है।
Priya princess panwar
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
किस लिए पास चले आए अदा किसकी थी
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मौत का डर
मौत का डर
अनिल "आदर्श"
"मन क्यों मौन?"
Dr. Kishan tandon kranti
Typing mistake
Typing mistake
Otteri Selvakumar
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
*
*"माँ महागौरी"*
Shashi kala vyas
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
रास्ते पर कांटे बिछे हो चाहे, अपनी मंजिल का पता हम जानते है।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
मुट्ठी भर रेत है जिंदगी
Suryakant Dwivedi
23/183.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/183.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
बिना आमन्त्रण के
बिना आमन्त्रण के
gurudeenverma198
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
पहचान
पहचान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी तेरे हंसी रंग
जिंदगी तेरे हंसी रंग
Harminder Kaur
■ बात अगर ग़ैरत की हो तो क्यों न की जाए हिज़रत?
■ बात अगर ग़ैरत की हो तो क्यों न की जाए हिज़रत?
*Author प्रणय प्रभात*
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
वृंदावन की कुंज गलियां 💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
हर बात को समझने में कुछ वक्त तो लगता ही है
पूर्वार्थ
Loading...