Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2022 · 1 min read

यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से

यशोधरा के नयनों को, क्या गौतम पढ़ पायेगें।
अश्रु पूरित व्यथा- कथा को,मौन कभी गढ़ पायेगें।

गौतम भामिनि होकर तुमने ,क्या पाया पति को खोकर।
हुये तथागत वो गौतम से,तुमने क्यों पायी ठोकर।

जनमों के इस बंधन को,अपमानित कर तोड़ दिया।
माँ की ममता ठुकरा कर,राहुल को क्यों छोड़ दिया।

हठयोगी बनकर स्वामी, योग कभी पढ़ पायेगें
अश्रुपूरित व्यथा -कथा को, मौन कभी गढ़ पायेगें।

क्षुधा समर्पित इस तन में ,योग तभी जग पायेगा।
ये तन अप्पो -दीपो भव , ज्ञान- योग जब पायेगा

अपना कर भोग खीर का, आत्म- ज्ञान जब पाया है।
संसार को झुठला करके,जग को अब अपनाया है।

क्या जग को ठुकरा करके , गौतम अब बढ़ पायेगें।
अश्रुपूरित व्यथा- कथा को,मौन कभी गढ़ पायेगें।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
Anis Shah
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
रिश्ते , प्रेम , दोस्ती , लगाव ये दो तरफ़ा हों ऐसा कोई नियम
Seema Verma
उर्दू
उर्दू
Surinder blackpen
दो पल देख लूं जी भर
दो पल देख लूं जी भर
आर एस आघात
Things to learn .
Things to learn .
Nishant prakhar
सजि गेल अयोध्या धाम
सजि गेल अयोध्या धाम
मनोज कर्ण
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
🇭🇺 युवकों का निर्माण चाहिए
🇭🇺 युवकों का निर्माण चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दोहे नौकरशाही
दोहे नौकरशाही
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आम का मौसम
आम का मौसम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
लग्न वाला माह
लग्न वाला माह
Shiva Awasthi
बन नेक बन्दे रब के
बन नेक बन्दे रब के
Satish Srijan
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
क्यूट हो सुंदर हो प्यारी सी लगती
Jitendra Chhonkar
वाणी से उबल रहा पाणि💪
वाणी से उबल रहा पाणि💪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
*माँ जननी सदा सत्कार करूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
कवि का दिल बंजारा है
कवि का दिल बंजारा है
नूरफातिमा खातून नूरी
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
मां का हृदय
मां का हृदय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें
“ अपने प्रशंसकों और अनुयायियों को सम्मान दें"
DrLakshman Jha Parimal
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
पहाड़ में गर्मी नहीं लगती घाम बहुत लगता है।
Brijpal Singh
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
*
*"प्रकृति की व्यथा"*
Shashi kala vyas
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पागल तो मैं ही हूँ
पागल तो मैं ही हूँ
gurudeenverma198
बरखा रानी
बरखा रानी
लक्ष्मी सिंह
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
Loading...