Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर

“ब्राह्मण राजनीतिक तथा आर्थिक सुधार के मामलों के आंदोलन में सदैव अग्रसर रहते हैं, लेकिन जात-पांत के बंधन को तोड़ने के लिए बनाई गई सेना में वे शिविर अनुयाई (कैंप फॉलोअर्स) के रूप में भी नहीं पाए जाते।

क्या ऐसी आशा की जा सकती है कि भविष्य में इस मामले में ब्राह्मण लोग नेतृत्व करेंगे? मैं कहता हूं, नहीं। आप पूछ सकते हैं क्यों?

… आप यह भी तर्क प्रस्तुत कर सकते हैं कि ब्राह्मण दो प्रकार के हैं। एक, धर्मनिरपेक्ष ब्राह्मण और दूसरे, पुरोहित ब्राह्मण। यदि पुरोहित ब्राह्मण जात-पांत समाप्त करने वाले लोगों की तरफ से हथियार नहीं उठाता है तो धर्मनिरपेक्ष ब्राह्मण उठाएगा? नहीं।

इसमें कोई संदेह नहीं कि यह सारी बातें हैं ऊपर ऊपर बहुत ही विश्वसनीय लगत भी सकती हैं लेकिन इन सब बातों में हम यह भूल गए हैं कि यदि जाति व्यवस्था समाप्त हो जाती है तो ब्राह्मण जाति पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

इन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए क्या यह आशा करना उचित है कि ब्राह्मण लोग ऐसे आंदोलन का नेतृत्व करने के लिए सहमत होंगे जिसके परिणाम स्वरूप ब्राह्मण जाति की शक्ति और सम्मान नष्ट हो जाएगा? क्या धर्मनिरपेक्ष ब्राह्मणों से यह आशा करना उचित होगा कि वह पुरोहित ब्राह्मणों के विरुद्ध किए गए आंदोलन में भाग लेंगे?

मेरे निर्णय के अनुसार धर्मनिरपेक्ष ब्राह्मणों और पुरोहित ब्राह्मणों में भेद करना व्यर्थ है। वह दोनों आपस में रिश्तेदार हैं। वे एक शरीर की दो भुजाएं हैं। एक ब्राह्मण दूसरे ब्राह्मण का अस्तित्व बनाए रखने हेतु लड़ने के लिए बाध्य है।”

Language: Hindi
141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
Feelings of love
Feelings of love
Bidyadhar Mantry
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
जाना ही होगा 🙏🙏
जाना ही होगा 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिवरात्रि
शिवरात्रि
Madhu Shah
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
Manu Vashistha
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
पा रही भव्यता अवधपुरी उत्सव मन रहा अनोखा है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"" *अक्षय तृतीया* ""
सुनीलानंद महंत
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
घर सम्पदा भार रहे, रहना मिलकर सब।
Anil chobisa
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
पत्तों से जाकर कोई पूंछे दर्द बिछड़ने का।
Taj Mohammad
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई  लिखता है
चाँद बदन पर ग़म-ए-जुदाई लिखता है
Shweta Soni
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
भरोसा जिंद‌गी का क्या, न जाने मौत कब आए (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
पत्थर तोड़ती औरत!
पत्थर तोड़ती औरत!
कविता झा ‘गीत’
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
عظمت رسول کی
عظمت رسول کی
अरशद रसूल बदायूंनी
😊अनुरोध😊
😊अनुरोध😊
*Author प्रणय प्रभात*
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के माध्यम - भाग 02 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
मतलबी किरदार
मतलबी किरदार
Aman Kumar Holy
' पंकज उधास '
' पंकज उधास '
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"जोड़ो"
Dr. Kishan tandon kranti
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
राजा अगर मूर्ख हो तो पैसे वाले उसे तवायफ की तरह नचाते है❗
शेखर सिंह
मौज में आकर तू देता,
मौज में आकर तू देता,
Satish Srijan
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
ज़िंदगी एक जाम है
ज़िंदगी एक जाम है
Shekhar Chandra Mitra
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
Loading...