Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Feb 2017 · 1 min read

मौसम

फ़रवरी की हल्की गुलाबी ठंड थी
सुबह ख़ुद को कोहरे में लपेटे हुए

हल्की हवाओं से ओस को संभाले थी
पेड़ों से गिरती ओस बारिश सी झल रही थी

सूरज आग की धीमी लौ-सा जल रहा था
धीरे धीरे सफ़ेद चादर में पिघल रहा था

कुछ ऐसे सर्द हवाओं के मौसम में
हम भी कुछ अंदर से जल रहे थे

सूरज जैसे धीरे धीरे हम पिघल रहे थे
कुछ गरमाहट-सी थी साँसों में मेरी

इश्क़ का ख़ुमार था दिल पर कुछ ऐसा
हर बात कहि तेरी नशे में लग रही थी

साँसों की गरमाहट उनके पास आने से थी
पिघलती सी शामें अब तेरी बाँहों में थी

कुछ तो नशा है इस मौसम में सनम
हर रात सुबह की दीवानी सी लग रही थी

1 Like · 288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी चाह में सब जन ने
अपनी चाह में सब जन ने
Buddha Prakash
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
घमंड की बीमारी बिलकुल शराब जैसी हैं
शेखर सिंह
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
*
*"मुस्कराहट"*
Shashi kala vyas
#गजल
#गजल
*Author प्रणय प्रभात*
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वाणी से उबल रहा पाणि
वाणी से उबल रहा पाणि
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
Roshani jaiswal
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
ये लोकतंत्र की बात है
ये लोकतंत्र की बात है
Rohit yadav
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हरि से मांगो,
हरि से मांगो,
Satish Srijan
एक और इंकलाब
एक और इंकलाब
Shekhar Chandra Mitra
“Mistake”
“Mistake”
पूर्वार्थ
3309.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3309.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
*26 फरवरी 1943 का वैवाहिक निमंत्रण-पत्र: कन्या पक्ष :चंदौसी/
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
तुम्हारा प्यार अब मिलता नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
यादों पर एक नज्म लिखेंगें
Shweta Soni
"गुमान"
Dr. Kishan tandon kranti
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
प्रश्न –उत्तर
प्रश्न –उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...