Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2016 · 1 min read

मौन होठों को

*मुक्तक*
मौन होठों को जरा तुम मुस्कुराहट दीजिये।
है खजा सा दिल मुहब्बत की सजावट दीजिये।
हर खुशी से ये जहां में हो गया महरूम है।
दिल है’ तनहा यारियों की इक बसाहट दीजिये।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
236 Views
You may also like:
रहे न अगर आस तो....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम लिखते क्यों हैं
पूनम झा 'प्रथमा'
$$पिता$$
दिनेश एल० "जैहिंद"
ख्वाहिश
अमरेश मिश्र 'सरल'
हुनर बाज
Seema 'Tu hai na'
मुझको तुम्हारा क्या भरोसा
gurudeenverma198
हर रोज में पढ़ता हूं
Sushil chauhan
💐💐प्रेम की राह पर-64💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
Manoj Kumar
चुनावी हथकंडे
Shekhar Chandra Mitra
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गणेश चतुर्थी
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
सरहद पर रहने वाले जवान के पत्नी का पत्र
Anamika Singh
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
संत की महिमा
Buddha Prakash
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*यह रोने की बात नहीं है,मरना नियम पुराना (गीत)*
Ravi Prakash
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
शहीदों के नाम
Sahil
आग्रह
Rashmi Sanjay
तू अहम होता।
Taj Mohammad
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
गरीबी का चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
✍️घुसमट✍️
'अशांत' शेखर
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
Loading...