Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मौन होठों को

*मुक्तक*
मौन होठों को जरा तुम मुस्कुराहट दीजिये।
है खजा सा दिल मुहब्बत की सजावट दीजिये।
हर खुशी से ये जहां में हो गया महरूम है।
दिल है’ तनहा यारियों की इक बसाहट दीजिये।
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

160 Views
You may also like:
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
सुन ज़िन्दगी!
Shailendra Aseem
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
मां
Umender kumar
मन सीख न पाया
Saraswati Bajpai
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
.✍️लौटा हि दूँगा...✍️
"अशांत" शेखर
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
गीत
शेख़ जाफ़र खान
ईश्वर की जयघोश
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Santoshi devi
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
यादें
Sidhant Sharma
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
राम काज में निरत निरंतर अंतस में सियाराम हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम कहते हो।
Taj Mohammad
मुकद्दर ने
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
माँ की याद
Meenakshi Nagar
★HAPPY FATHER'S DAY ★
KAMAL THAKUR
Loading...