Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।

मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
अनुत्तरित है आज तक, कहाँ गए वो प्राण ।।

सुशील सरना / 18-1-24

106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
मिलन
मिलन
Bodhisatva kastooriya
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
*झूठा यह संसार समूचा, झूठी है सब माया (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
रोला छंद :-
रोला छंद :-
sushil sarna
शक
शक
Paras Nath Jha
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
अंताक्षरी पिरामिड तुक्तक
Subhash Singhai
गीत प्रतियोगिता के लिए
गीत प्रतियोगिता के लिए
Manisha joshi mani
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
मायूसियों से निकलकर यूँ चलना होगा
VINOD CHAUHAN
कथनी और करनी
कथनी और करनी
Davina Amar Thakral
कांधा होता हूं
कांधा होता हूं
Dheerja Sharma
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
शबनम छोड़ जाए हर रात मुझे मदहोश करने के बाद,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सब्र
सब्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
Nothing grand to wish for, but I pray that I am not yet pass
पूर्वार्थ
माँ को फिक्र बेटे की,
माँ को फिक्र बेटे की,
Harminder Kaur
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
चेहरे की पहचान ही व्यक्ति के लिये मायने रखती है
शेखर सिंह
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/65.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
आपस की गलतफहमियों को काटते चलो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
दिल का कोई
दिल का कोई
Dr fauzia Naseem shad
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा वजूद क्या
मेरा वजूद क्या
भरत कुमार सोलंकी
मोर
मोर
Manu Vashistha
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
हृदय को ऊॅंचाइयों का भान होगा।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
*देश की आत्मा है हिंदी*
*देश की आत्मा है हिंदी*
Shashi kala vyas
श्रम कम होने न देना _
श्रम कम होने न देना _
Rajesh vyas
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
రామయ్య మా రామయ్య
రామయ్య మా రామయ్య
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...