Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 2 min read

मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ

उठ रहे जो भाव उर में सुर से मैं आकार दूँ
मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ

जी रहा हूँ जिंदगी मैं ,,,,, चेहरे पे चेहरा लिये
घुट रहा है दम मेरा ,,और मौत सेहरा है लिए
शुद्ध ब्रह्मन हूँ कहीं ,,,,और शूद्र जैसा हूँ कहीं
मैं वहीं संदोह हूँ क्या ,,,,,सोच होता ना यकीं

मैं स्वयं को दूँ बदल ,,,,या मैं स्वयं पे भार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

लेखनी लिख पायेगी ,,,,क्या जो मेरे अंतःकरन
शब्द बन्धन तोड़ देंगें,,, मौन का क्या आचरन
गर लिखूँ अपवाद तो ,,,,अवसाद से होगा वरन
चित्त चिन्ता में फँसा क्या लिखूँ अगला चरन

वक़्त पे आशा रक्खूँ या उम्मीद अपनी मार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

रोज लिखते सत्य पे पर सत्य क्या बोला कभी
झूठ की तृष्ना मिटी ना,,, ठूँठ क्या डोला कभी
जड़ रहे चेतन समझते ,,,,,,,,चेत पाये ना कभी
चेतना चित की गयी ,,,,,जब रेत आये है सभी

फेंक दूँ यह आवरण या आचरण को धार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

मसि कलम लेकर मैं बैठा,, और कागद ढेर भर
चल पड़ीं फिर लेखनी ,,और शब्द आये हेर कर
मैं गयी मन से मेरे ,,और आप ही बस आप थे
मिट गये मन से मेरे ,,उपजे जो उर संताप थे

कर स्वयं की खोज तू ,, तुझपे मैं जीवन वार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

जिन्दगी आगोश में जब मौत को ललकार दूँ
ताप नाशक आप है सब,,,,,ताप को सन्हार दूँ
उर लसे सन्दोह हर तब मोह क्या अधिकार दूँ
मौन की भाषा में अब ,,मैं मौन को प्रतिकार दूँ

कर्म ही निज धर्म मानव तुझको जीवन सार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

चिदानन्द सन्दोह

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 507 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
तेरे दिदार
तेरे दिदार
SHAMA PARVEEN
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/82.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
कर्म भाव उत्तम रखो,करो ईश का ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
Harminder Kaur
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
इश्क़ छूने की जरूरत नहीं।
Rj Anand Prajapati
🙅आज का लतीफ़ा🙅
🙅आज का लतीफ़ा🙅
*प्रणय प्रभात*
यह दुनिया समझती है, मै बहुत गरीब हुँ।
यह दुनिया समझती है, मै बहुत गरीब हुँ।
Anil chobisa
कभी कभी
कभी कभी
Shweta Soni
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
चाँद पर रखकर कदम ये यान भी इतराया है
Dr Archana Gupta
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
कमल खिल चुका है ,
कमल खिल चुका है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
सुनो जीतू,
सुनो जीतू,
Jitendra kumar
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सुंदरता विचारों में सफर करती है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
दो वक्त की रोटी नसीब हो जाए
VINOD CHAUHAN
आँसू छलके आँख से,
आँसू छलके आँख से,
sushil sarna
ईश्वर से बात
ईश्वर से बात
Rakesh Bahanwal
चाँद
चाँद
Vandna Thakur
Loading...