Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 2 min read

मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ

उठ रहे जो भाव उर में सुर से मैं आकार दूँ
मौन की भाषा गढूं या कण्ठ से उद्गार दूँ

जी रहा हूँ जिंदगी मैं ,,,,, चेहरे पे चेहरा लिये
घुट रहा है दम मेरा ,,और मौत सेहरा है लिए
शुद्ध ब्रह्मन हूँ कहीं ,,,,और शूद्र जैसा हूँ कहीं
मैं वहीं संदोह हूँ क्या ,,,,,सोच होता ना यकीं

मैं स्वयं को दूँ बदल ,,,,या मैं स्वयं पे भार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

लेखनी लिख पायेगी ,,,,क्या जो मेरे अंतःकरन
शब्द बन्धन तोड़ देंगें,,, मौन का क्या आचरन
गर लिखूँ अपवाद तो ,,,,अवसाद से होगा वरन
चित्त चिन्ता में फँसा क्या लिखूँ अगला चरन

वक़्त पे आशा रक्खूँ या उम्मीद अपनी मार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

रोज लिखते सत्य पे पर सत्य क्या बोला कभी
झूठ की तृष्ना मिटी ना,,, ठूँठ क्या डोला कभी
जड़ रहे चेतन समझते ,,,,,,,,चेत पाये ना कभी
चेतना चित की गयी ,,,,,जब रेत आये है सभी

फेंक दूँ यह आवरण या आचरण को धार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

मसि कलम लेकर मैं बैठा,, और कागद ढेर भर
चल पड़ीं फिर लेखनी ,,और शब्द आये हेर कर
मैं गयी मन से मेरे ,,और आप ही बस आप थे
मिट गये मन से मेरे ,,उपजे जो उर संताप थे

कर स्वयं की खोज तू ,, तुझपे मैं जीवन वार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

जिन्दगी आगोश में जब मौत को ललकार दूँ
ताप नाशक आप है सब,,,,,ताप को सन्हार दूँ
उर लसे सन्दोह हर तब मोह क्या अधिकार दूँ
मौन की भाषा में अब ,,मैं मौन को प्रतिकार दूँ

कर्म ही निज धर्म मानव तुझको जीवन सार दूँ
मौन की भाषा गढूं ,,,,,,,,या कण्ठ से उद्गार दूँ

चिदानन्द सन्दोह

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 386 Views
You may also like:
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
🌲प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
परिवार के दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
जिन्दगी रो पड़ी है।
Taj Mohammad
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
उठ मुसाफिर
Seema 'Tu hai na'
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
"शिवाजी महाराज के अंग्रेजो के प्रति विचार"
Pravesh Shinde
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
कवित्त
Varun Singh Gautam
मैंने मना कर दिया
विनोद सिल्ला
रफ्तार
Anamika Singh
थिरक उठें जन जन,
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन की बात 🥰
Ankita
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मुरली मनेहर कान्हा प्यारे
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता
Neha Sharma
*"यूँ ही कुछ भी नही बदलता"*
Shashi kala vyas
लफ़्ज़ों में ढूंढते रहे
Dr fauzia Naseem shad
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
🌸🌸व्यवहारस्य सद्य विकासस्य आवश्यकता🌸🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आख़िरी मुलाकात
N.ksahu0007@writer
पिता
Meenakshi Nagar
"बिहार में शैक्षिक नवाचार"
पंकज कुमार कर्ण
अपनी आँखों से ........................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
असीम जिंदगी...
मनोज कर्ण
Loading...