Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

‘मौन अभिव्यक्ति’

लालिमा के मन, क्षितिज की,
हूक सी क्यों, उठ रही।
व्योम, वसुधा से,
कहे कैसे कि, तुम से प्यार है।

पुष्प, कलिका से, बयाँ,
अनुभव है अप्रतिम कर रही।
मुस्कुराना, सोच कर ही,
निर्दयी, सँसार है।

प्रशँसा भी, पवन आख़िर,
सुरभि की, कैसे करे।
कुछ न कह पाने का, बरबस,
उसके भी मन-भार है।

मिलन की “आशा” लिए,
सरिता है, अविरल बह रही।
किन्तु सागर क्या कहे,
उर में उठा, जो ज्वार है।

यूँँ तो अपनापन जताना,
प्रेम का आधार है।
व्यक्त, कर पाता न पर जो,
उसका भी आभार है..!

##———-##———-##

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
चंद ख्वाब मेरी आँखों के, चंद तसव्वुर तेरे हों।
Shiva Awasthi
सब ठीक है
सब ठीक है
पूर्वार्थ
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ऐ ज़िंदगी
ऐ ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
कदीमी याद
कदीमी याद
Sangeeta Beniwal
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
- एक दिन उनको मेरा प्यार जरूर याद आएगा -
bharat gehlot
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
"गाय"
Dr. Kishan tandon kranti
अहाना छंद बुंदेली
अहाना छंद बुंदेली
Subhash Singhai
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
🥀*✍अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
चवन्नी , अठन्नी के पीछे भागते भागते
Manju sagar
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी कई मायनों में खास होती है।
Shashi kala vyas
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
उर्दू वर्किंग जर्नलिस्ट का पहला राष्ट्रिय सम्मेलन हुआ आयोजित।
Shakil Alam
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
हर इंसान को भीतर से थोड़ा सा किसान होना चाहिए
ruby kumari
चारु
चारु
NEW UPDATE
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
शेखर सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...