Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

मौत मंजिल है और जिंदगी है सफर

मौत मंजिल है, और जिंदगी है सफर
इस सफर का, जहां में मजा लीजिए
कब आएगी मंजिल, किसको पता
लुफ्त हर घड़ी का उठा लीजिए
न कुछ लाए यहां, ना ही ले जाओगे
जो मिला है, उसी में सबर कीजिए
कभी सुख आएगा, कभी दुख आएगा
वक्त रुकता नहीं, सब गुजर जाएगा
एक नदी की तरह, ये सफर कीजिए
इस सफर में मिलेंगे मुसाफिर बहुत
सबसे मिलिए, सभी का अदब कीजिए
मिले मंजिल मुकम्मल सभी खुश रहें
अपने दिल में, खुदा से दुआ कीजिए

10 Likes · 5 Comments · 2752 Views
You may also like:
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
माँ
आकाश महेशपुरी
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
इश्क
Anamika Singh
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
Loading...