Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2023 · 1 min read

मोहे हिंदी भाये

पैंट शर्ट चश्मा टाई में,
इत उत डोलूँ,
बचपन में दिल करता था,
अंग्रेजी बोलूं।

थैंक यू,सॉरी,शटअप,
व्हाट, बट, व्हाई,क्वेरी।
सब देखें तारीफ करें,
खुब जम कर मेरी।

मर मर कर के सीख लिया,
अंग्रेजी बकना।
लेकिन रहा व्यक्तित्व,
हो जैसे खग बिन पखना।

बच्चों की तालीम हुई,
इंग्लिश पठशाला।
उनकी अंग्रेजी जैसे,
कोई लंदन वाला।

बड़ा हुआ तो पता चला,
निज भाषा अच्छी।
इंग्लिश भले हो नीक मगर,
हिंदी है सच्ची।

कविता मेरी शान जो,
सुर और लय में गाये।
अब जब इंग्लिश आती तो,
मोहे हिंदी भाये।

Language: Hindi
120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
गीत
गीत
Kanchan Khanna
2558.पूर्णिका
2558.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* तपन *
* तपन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
*
*"सदभावना टूटे हृदय को जोड़ती है"*
Shashi kala vyas
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
जब कभी भी मुझे महसूस हुआ कि जाने अनजाने में मुझसे कोई गलती ह
ruby kumari
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
होके रहेगा इंक़लाब
होके रहेगा इंक़लाब
Shekhar Chandra Mitra
Wo mitti ki aashaye,
Wo mitti ki aashaye,
Sakshi Tripathi
बसंत
बसंत
नूरफातिमा खातून नूरी
महायज्ञ।
महायज्ञ।
Acharya Rama Nand Mandal
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
करवा चौथ@)
करवा चौथ@)
Vindhya Prakash Mishra
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मित्रता तुम्हारी हमें ,
मित्रता तुम्हारी हमें ,
Yogendra Chaturwedi
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
क्यूँ इतना झूठ बोलते हैं लोग
shabina. Naaz
सुबह की एक कप चाय,
सुबह की एक कप चाय,
Neerja Sharma
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
*मृत्यु-चिंतन(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
8. टूटा आईना
8. टूटा आईना
Rajeev Dutta
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
अच्छा इंसान
अच्छा इंसान
Dr fauzia Naseem shad
Loading...