Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2022 · 1 min read

*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*

कर लो दो पल की, मोहब्बत मोहक पेड़ों से
बच जायेंगे हम सभी, नेचर (Nature) थपेड़ों से
कर लो दो पल……..
1) पेड़ हैं तो हम सभी यहां, जिंदा रह सकते
पेड़ ना रहे तो जीवन, हम नहीं जी सकते
पेड़ों से ही दूर रहें, ब्रह्मांड बखेड़ों से
कर लो दो पल……..
2) पेड़ों की सुंदरता ही, मानव जीवन आधार
पेड़ों से ही बसा धरा पर, जीवो का संसार
पेड़ न रहे हम मरें, कीड़े – मकोड़ों से
कर लो दो पल…….
3) पेड़ों से भोजन मिलता , मिले फल सब्जी का प्यार
पेड़ ना रहें जीवन जीना, हो जाए धिक्कार
बिन पेड़ों के बचें नहीं, बेमौंत कोड़ों से
कर लो दो पल……
लेखक:- खैमसिंह सैनी
भरतपुर, राजस्थान
मो.न. 9267034599

Language: Hindi
6 Likes · 2 Comments · 996 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ शारदे
माँ शारदे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
धोखा वफा की खाई है हमने
धोखा वफा की खाई है हमने
Ranjeet kumar patre
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
2657.*पूर्णिका*
2657.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
मंजर जो भी देखा था कभी सपनों में हमने
कवि दीपक बवेजा
■ एक लफ़्ज़ : एक शेर...
■ एक लफ़्ज़ : एक शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन
जीवन
Rekha Drolia
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
जर जमीं धन किसी को तुम्हारा मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
सफर
सफर
Arti Bhadauria
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
कभी लगे के काबिल हुँ मैं किसी मुकाम के लिये
Sonu sugandh
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
माँ सरस्वती
माँ सरस्वती
Mamta Rani
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
बिन काया के हो गये ‘नानक’ आखिरकार
कवि रमेशराज
उम्र निकल रही है,
उम्र निकल रही है,
Ansh
पिता
पिता
Shweta Soni
मत याद करो बीते पल को
मत याद करो बीते पल को
Surya Barman
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
सबसे मुश्किल होता है, मृदुभाषी मगर दुष्ट–स्वार्थी लोगों से न
Dr MusafiR BaithA
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
दो ही हमसफर मिले जिन्दगी में..
Vishal babu (vishu)
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
सीसे में चित्र की जगह चरित्र दिख जाए तो लोग आइना देखना बंद क
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
" कू कू "
Dr Meenu Poonia
सहजता
सहजता
Sanjay ' शून्य'
- अब नहीं!!
- अब नहीं!!
Seema gupta,Alwar
*पिता (दोहा गीतिका)*
*पिता (दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...