Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर

मोहब्बत ना सही तू नफ़रत ही जताया कर
छोड़कर घर मेरा तू शहर तो आया कर
मुझे खामोशियां पसंद नहीं तेरी
कम से कम मेरी खामियां ही बताया कर

Gouri tiwari

1 Like · 66 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चिड़िया
चिड़िया
Kanchan Khanna
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अरे रामलला दशरथ नंदन
अरे रामलला दशरथ नंदन
Neeraj Mishra " नीर "
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
कुछ अजीब सा चल रहा है ये वक़्त का सफ़र,
Shivam Sharma
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
#आज_का_कटाक्ष
#आज_का_कटाक्ष
*प्रणय प्रभात*
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
*अब कब चंदा दूर, गर्व है इसरो अपना(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
विश्वकर्मा जयंती उत्सव की सभी को हार्दिक बधाई
Harminder Kaur
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
जब तक जेब में पैसो की गर्मी थी
Sonit Parjapati
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
आपस में अब द्वंद है, मिलते नहीं स्वभाव।
Manoj Mahato
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
महानगर के पेड़ों की व्यथा
महानगर के पेड़ों की व्यथा
Anil Kumar Mishra
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सृष्टि का अंतिम सत्य प्रेम है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
One day you will realized that happiness was never about fin
One day you will realized that happiness was never about fin
पूर्वार्थ
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
यूँ तो हम अपने दुश्मनों का भी सम्मान करते हैं
ruby kumari
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
*जुदाई न मिले किसी को*
*जुदाई न मिले किसी को*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
तितली
तितली
Manu Vashistha
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
তার চেয়ে বেশি
তার চেয়ে বেশি
Otteri Selvakumar
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
हमने दीवारों को शीशे में हिलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
Loading...