Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 14, 2016 · 1 min read

मोहब्बत को पैरहन की तरह हमेशा ही बदले जो

मोहब्ब्त को पैरहन की तरह हमेशा ही बदले जो
बातें ताज की ही फिर ऐसे बशर अब करते क्यों
संग मुमताज़ उन हजारों की आत्माएं भी रोती हैं
मोहब्बते-पाक की ख़ातिर लहद में सब रहते जो ।।
शुचि(भवि)

108 Views
You may also like:
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
ग़ज़ल- इशारे देखो
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
सूरज की पहली किरण
DESH RAJ
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
✍️इँसा और परिंदे✍️
"अशांत" शेखर
प्रेम दो दिल की धड़कन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
त्याग की परिणति - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन
Mahendra Narayan
मुक्तक- जो लड़ना भूल जाते हैं...
आकाश महेशपुरी
Time never returns
Buddha Prakash
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
नजर तो मुझको यही आ रहा है
gurudeenverma198
छाँव पिता की
Shyam Tiwari
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"सुकून"
Lohit Tamta
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
Loading...