Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

तीन शेर***

ठुकरा दिये उसके दिये सारे तख्तो ताज हमने ;
मुझको मालूम था तब फकीरी में जीने का मजा |

मेरी हस्ती की फिकर करने वाले जरा तू भी;
भंवर में डूबती अपनी कश्ती को बचा |

उसके तालुके से कोई ताअल्लुक नहीं मेरा,
मुझको मेरे ही शहर की दो गज जमीन काफी है |

Language: Hindi
Tag: शेर
546 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अदा"
Dr. Kishan tandon kranti
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
इच्छाएं.......
इच्छाएं.......
पूर्वार्थ
हक़ीक़त का
हक़ीक़त का
Dr fauzia Naseem shad
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
कवि दीपक बवेजा
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
स्वप्न विवेचना -ज्योतिषीय शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ब्रांड. . . .
ब्रांड. . . .
sushil sarna
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/92.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
वो इशक तेरा ,जैसे धीमी धीमी फुहार।
Surinder blackpen
आज होगा नहीं तो कल होगा
आज होगा नहीं तो कल होगा
Shweta Soni
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
Finding alternative  is not as difficult as becoming alterna
Finding alternative is not as difficult as becoming alterna
Sakshi Tripathi
*असुर या देवता है व्यक्ति, बतलाती सदा बोली (मुक्तक)*
*असुर या देवता है व्यक्ति, बतलाती सदा बोली (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
हुलिये के तारीफ़ात से क्या फ़ायदा ?
ओसमणी साहू 'ओश'
मात-पिता केँ
मात-पिता केँ
DrLakshman Jha Parimal
क्या बचा  है अब बदहवास जिंदगी के लिए
क्या बचा है अब बदहवास जिंदगी के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रूप का उसके कोई न सानी, प्यारा-सा अलवेला चाँद।
रूप का उसके कोई न सानी, प्यारा-सा अलवेला चाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं निकल पड़ी हूँ
मैं निकल पड़ी हूँ
Vaishaligoel
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
■ सुन भी लो...!!
■ सुन भी लो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
श्रीमद्भगवद्‌गीता का सार
Jyoti Khari
"Guidance of Mother Nature"
Manisha Manjari
💐अज्ञात के प्रति-6💐
💐अज्ञात के प्रति-6💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
हिंदी हाइकु- नवरात्रि विशेष
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...