Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

तीन शेर***

ठुकरा दिये उसके दिये सारे तख्तो ताज हमने ;
मुझको मालूम था तब फकीरी में जीने का मजा |

मेरी हस्ती की फिकर करने वाले जरा तू भी;
भंवर में डूबती अपनी कश्ती को बचा |

उसके तालुके से कोई ताअल्लुक नहीं मेरा,
मुझको मेरे ही शहर की दो गज जमीन काफी है |

443 Views
You may also like:
मेरे पापा
Anamika Singh
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
आओ तुम
sangeeta beniwal
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता
Neha Sharma
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
Loading...