Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया

मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
रंग से सराबोर मन की नगरिया
न लागे से छूटें न हों रंग फीके
मुझे प्रेम के रंग रंग दे संवरिया।।

269 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनुराग दीक्षित
View all
You may also like:
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
वृद्धाश्रम में दौर, आखिरी किसको भाता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
मां का लाडला तो हर एक बेटा होता है, पर सासू मां का लाडला होन
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
दिल चाहता है अब वो लम्हें बुलाऐ जाऐं,
Vivek Pandey
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
शून्य से अनंत
शून्य से अनंत
The_dk_poetry
🌙Chaand Aur Main✨
🌙Chaand Aur Main✨
Srishty Bansal
वाराणसी की गलियां
वाराणसी की गलियां
PRATIK JANGID
राख का ढेर।
राख का ढेर।
Taj Mohammad
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
■ चुनावी साल, संक्रमण काल।
*प्रणय प्रभात*
**वसन्त का स्वागत है*
**वसन्त का स्वागत है*
Mohan Pandey
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
वाणी से उबल रहा पाणि
वाणी से उबल रहा पाणि
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
2767. *पूर्णिका*
2767. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Forever
Forever
Vedha Singh
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
मैं तो महज वक्त हूँ
मैं तो महज वक्त हूँ
VINOD CHAUHAN
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
वो ख़्वाहिशें जो सदियों तक, ज़हन में पलती हैं, अब शब्द बनकर, बस पन्नों पर बिखरा करती हैं।
Manisha Manjari
*जो कहता है कहने दो*
*जो कहता है कहने दो*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"विश्व हिन्दी दिवस"
Dr. Kishan tandon kranti
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
शेखर सिंह
आईना
आईना
Pushpa Tiwari
कन्यादान
कन्यादान
Mukesh Kumar Sonkar
सोच के दायरे
सोच के दायरे
Dr fauzia Naseem shad
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
बाप अपने घर की रौनक.. बेटी देने जा रहा है
Shweta Soni
Loading...