Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2024 · 1 min read

मोर मुकुट संग होली

बिषय -मोर मुकुट संग होली

मै तो खेलू मोर मुकुट संग होली
चाहें भीगें मेरी चुनरी
चाहें भीगें मोरी चोली
मै तो खेलू मोर मुकुट संग होली
चाहें जग छूटे
चाहे रव रूठे
बस चलती रहे
अपनी आँख मिचौली
मै तो खेलू मोर मुकुट संग होली
मोर मुकुट धरे
हाथ मे मुरली
सूरत है जाकी भोली
मै तो खेलू मोर मुकुट संग होली
जमुना तट पर मुरली बजाए
पनघट पर वो हमको सताए
घर मे करे वो माखन चोरी
मै तो खेलू मोर मुकुट संग होली
***दिनेश कुमार गंगवार ***

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 2 Comments · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंतजार युग बीत रहा
इंतजार युग बीत रहा
Sandeep Pande
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
"इबारत"
Dr. Kishan tandon kranti
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
*बुंदेली दोहा-चिनार-पहचान*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
A Hopeless Romantic
A Hopeless Romantic
Vedha Singh
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
দারিদ্রতা ,রঙ্গভেদ ,
DrLakshman Jha Parimal
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यार भरी चांदनी रात
प्यार भरी चांदनी रात
नूरफातिमा खातून नूरी
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
कँवल कहिए
कँवल कहिए
Dr. Sunita Singh
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आरक्षण
आरक्षण
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
भज ले भजन
भज ले भजन
Ghanshyam Poddar
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कर्जा
कर्जा
RAKESH RAKESH
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
जीवन एक और रिश्ते अनेक क्यों ना रिश्तों को स्नेह और सम्मान क
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
हम कितने चैतन्य
हम कितने चैतन्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
चंद अशआर - हिज्र
चंद अशआर - हिज्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
प्रकृति से हमें जो भी मिला है हमनें पूजा है
Sonam Puneet Dubey
शादी ..... एक सोच
शादी ..... एक सोच
Neeraj Agarwal
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
अवधी लोकगीत
अवधी लोकगीत
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...