Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 26, 2016 · 1 min read

मोदी-मोदी

दूध से सफ़ेद बाल
दूध सी सफ़ेद दाढ़ी
ढक देते हैं “मोदी” जी
आपके आधे चेहरे को
लगता हो जैसे बादलों ने
ढांक रखा हो चांद को…
लेकिन जब भी
पड़ती है मेरी नज़र आपके चश्मे पर
सोचता हूँ उतार कर देखूं उन आँखों को
जो छोड़ आए हैं
व्यथित “जसोदा” को
किसी दरवाज़े की चौखट पर
रिश्तों का सिर्फ नाम देकर….
आप अहिंसा के पुजारी हो
या हिंसा के…
महात्मा….महामानव हो
या हो कोई साक्षात अवतारी
वक़्त की ताकत हो
या फिर हो स्वयं
थके-थके से कोई संवाहक
अधूरा पाता हूँ इन
प्रश्नों के जवाब में अपने आप को…..!
सुनील

197 Views
You may also like:
बचपन
Anamika Singh
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
जग
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️अतीत✍️✍️
"अशांत" शेखर
हंसकर गमों को एक घुट में मैं इस कदर पी...
Krishan Singh
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
समय..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
" अपनी ढपली अपना राग "
Dr Meenu Poonia
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
नारियल
Buddha Prakash
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
लड्डू का भोग
Buddha Prakash
Time never returns
Buddha Prakash
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
अज़ल की हर एक सांस जैसे गंगा का पानी है./लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...