Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Oct 2022 · 1 min read

मोक्षदायिनी उज्जैयिनी जहां शिवमय है कण कण

जगमग जगमग दमक उठा, महाकाल का आंगन
वरनि न जाए छटा निराली, महाकाल लोक मनभावन
क्षिप्रा जी के घाट सजे हैं,भरा हुआ जल पावन
मोक्षदायिनी उज्जैयिनी, शिव का निवास महावन
वैभवशाली शिव नगरी का,शिवमय है कण कण
जयश्री महाकाल 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
4 Likes · 272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"" *चाय* ""
सुनीलानंद महंत
*फल (बाल कविता)*
*फल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
तुम अपना भी  जरा ढंग देखो
तुम अपना भी जरा ढंग देखो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
Dil toot jaayein chalega
Dil toot jaayein chalega
Prathmesh Yelne
कूल नानी
कूल नानी
Neelam Sharma
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिंदगी को खुद से जियों,
जिंदगी को खुद से जियों,
जय लगन कुमार हैप्पी
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
इश्क की खुमार
इश्क की खुमार
Pratibha Pandey
"बहाव"
Dr. Kishan tandon kranti
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
विक्रम कुमार
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
हार गए तो क्या हुआ?
हार गए तो क्या हुआ?
Praveen Bhardwaj
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
दिल तुम्हारा जो कहे, वैसा करो
अरशद रसूल बदायूंनी
बंधन खुलने दो(An Erotic Poem)
बंधन खुलने दो(An Erotic Poem)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिंदगी रोज़ नये जंग दिखाए हमको
जिंदगी रोज़ नये जंग दिखाए हमको
Shweta Soni
■ विडम्बना
■ विडम्बना
*प्रणय प्रभात*
16. आग
16. आग
Rajeev Dutta
दिल में रह जाते हैं
दिल में रह जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
सियासत नहीं रही अब शरीफों का काम ।
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"हार व जीत तो वीरों के भाग्य में होती है लेकिन हार के भय से
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
Loading...